भर्तृहरि, उज्जैन, रहस्यमय फल और समृद्धि-प्रबन्धन


देखिये, हमें पूरा यकीन है कि हमें हिन्दी में कोई जगह अपने लिये कार्व-आउट (carve-out) नहीं करनी है। बतौर ब्लॉगर या चिठेरा ही रहना है – चिठ्ठाकार के रूप में ब्लॉगरी की स्नातकी भी नहीं करनी है। इसलिये अण्ट को शण्ट के साथ जोड़ कर पोस्ट बनाने में हमारे सामने कोई वर्जना नहीं है।

सो अब जुड़ेंगे भर्तृहरी समृद्धि-प्रबन्धन के साथ। जरा अटेंशनियायें।

भर्तृहरि को सन्यासी मिला। (उज्जैन में दो दशक भर आते जाते हमें ही सैंकड़ों सन्यासी मिले थे तो भतृहरी को तो मिला ही होगा!)

उज्जैन का स्मरण होते ही कृष्ण, सान्दीपनि, सुदामा, सान्दीपनि आश्रम में खड़े नन्दी वाला शिवाला, भर्तृहरि की गुफा, भगवान कालभैरव पर तांत्रिकों का अड्डा, मंगलनाथ, सिद्धपीठ, पिंगलेश्वर, पंचक्रोशी यात्रा, दत्त का अखाड़ा, सिन्हस्थ और महाकाल का मन्दिर आदि सबकी याद हो आती है। — सब का प्रचण्ड विरह है मुझमें। सबका नाम ले ले रहा हूं – अन्यथा कथा आगे बढ़ा ही नहीं पाऊंगा।

हां, वह सन्यासी महायोगी था। राजा भर्तृहरि को एक फल दिया उसने अकेले में। फल के बारे में बता दिया कि राजा सुपात्र हैं, अच्छे प्रजापालक हैं, वे उसका सेवन करें। वह फल अभिमंत्रित है उस योगी की साधना से। उसके सेवन से राजा चिरयुवा रहेंगे, दीर्घायु होंगे।

Apple भर्तृहरि ने फल ले लिया पर उनकी आसक्ति अपनी छोटी रानी में थी। वह फल उन इंस्ट्रक्शंस के साथ उन्होने छोटी रानी को दे दिया। छोटी रानी को एक युवक प्रिय था। फल युवक के हाथ आ गया। युवक को एक वैश्या प्रिय थी। फल वहां पंहुचा। वैश्या को लगा कि वह तो पतिता है; फल के लिये सुपात्र तो राजा भर्तृहरी हैं जो दीर्घायु हों तो सर्वकाल्याण हो। उस वैश्या ने फल वेश बदल कर राजा को दिया।

भर्तृहरि फल देख आश्चर्य में पड़ गये। फल की ट्रेवल-चेन उनके गुप्तचरों ने स्पष्ट की। वह सुन कर राजा को वैराज्ञ हो गया। राजपाट अपने छोटे भाई विक्रम को दे दिया और स्वयम नाथ सम्प्रदाय के गुरु गोरक्षनाथ का शिष्यत्व ले लिया।224_Coconut

यह तो कथा हुई। अब आया जाय समृद्धि पर। भर्तृहरि के फल की तरह अर्थ (धन) भी अभिमंत्रित फल है। उसे लोग सम्भाल नहीं पाते। अपने मोह-लोभ-कुटैव-अक्षमता के कारण आगे सरकाते रहते हैं। मजे की बात है वे जानते नहीं कि सरका रहे हैं! बोनस मिलते ही बड़ा टीवी खरीदना – यह सरकाना ही है।

अंतत: वह जाता सुपात्र के पास ही है। जैसे अवंतिका के राज्य के सुपात्र विक्रमादित्य ही थे – जिन्हे वह मिला।1 आज आप विश्व की सारी सम्पदा बराबर बांट दें – कुछ समय बाद वह पात्रता के आधार पर फिर उसी प्रकार से हो जायेगी। धन वहीं जाता है जहां उसके सुपात्र हों। जहां वे उसमें वृद्धि करें। धन का ईश्वरीय कोष असीमित है। उस कोष को धरती पर जो बढ़ा सके वह सुपात्र है। धन गरीबों को चूसने से नहीं बढ़ता। धन समग्र रूप से बढ़ाने से बढ़ता है।


1. यह पता नहीं चलता कि उस फल का भर्तृहरि ने अंतत: क्या किया। राज्य जरूर विक्रमादित्य को सौप दिया था। यह सब आपको मिथकीय लगता होगा। पर क्षिप्रा के पुल पर से जब भी गुजरती थी मेरी ट्रेन; भर्तृहरि, विक्रमादित्य, चन्द्रगुप्त, कालिदास और वाराहमिहिर मुझे उसकी क्षीण जलधारा में झिलमिलाते लगते थे। अब वे दिन नहीं रहे – यह कसकता है।


मेरी पत्नी कह रही हैं – “यह पोस्ट शुरू तो लाफ्टर शो के अन्दाज में हुई पर बाद में आस्था चैनल हो गयी। इसे लोग कतई पढ़ने वाले नहीं!”

कल की पोस्टें जो शायद आपने न देखी हों –


Published by Gyan Dutt Pandey

Exploring village life. Past - managed train operations of IRlys in various senior posts. Spent idle time at River Ganges. Now reverse migrated to a village Vikrampur (Katka), Bhadohi, UP. Blog: https://gyandutt.com/ Facebook, Instagram and Twitter IDs: gyandutt Facebook Page: gyanfb

17 thoughts on “भर्तृहरि, उज्जैन, रहस्यमय फल और समृद्धि-प्रबन्धन

  1. ज्ञानदत्त जी आप कुछ अर्थ फ़ल सरका रहे हैं तो अपना नंबर सब से पहले है।इस बार की पोस्ट की शैली पहले से बिल्कुल भिन्न है और बहुत खूब है। आप ने सही कहा कि धन सुपात्र के पास जाता है जो इस में वर्द्धी कर सके। वैसे एक राज की बात बताएं ये कहानी हम बिल्कुल भूल चुके थे, तो एकदम नयी लगी। धन्यवाद

    Like

  2. इस लेख से ज्ञान प्राप्त हुआ। अब आने तो दीजिये अर्थ सम्पदा को, प्रयास रहेगा कि आगे सरकाने से रोका जाय 😉

    Like

  3. वाह वाह!!!कहानी पहले से पढ़ी हुई थी पर आपने उसे जिस रोचक अंदाज़ मे जोड़ते हुए प्रस्तुत किया है उस से रोचकता बढ़ गई है!!लाफ़्टर शो की तरह शुरुआत वाले मुद्दे पर–मैडम आप पर ही नही आपकी लेखन शैली पर भी बकायदा अच्छी नज़र रखे हुए है तो यह अच्छा है कि आपको समालोचक साथ ही उपलब्ध है!

    Like

  4. यह पता नहीं चलता कि उस फल का भर्तृहरि ने अंतत: क्या कियाचिन्ता ना करें. हमने लालू जी से सिफारिश कर दी है. वह जल्दी ही एक जांच आयोग बैठा देंगे और इसके बाद मालूम हो जाएगा कि फल कहाँ गया.

    Like

  5. मैंने देखा है की आप की अधिकांश पोस्ट सुबह के वक्त लिखी हुई हैं याने ब्रह्म मुहूर्त मैं काम शुभ ही होता है ये सिद्ध करने को इस से अच्छा उदाहरण और कहाँ मिलेगा? धन और समय का सिर्फ़ सुपात्र ही उपयोग कर सकते हैं इसलिए मैंने सोचा है की अब से मेरा धन मेरी पत्नी उपयोग करेगी और मैं अपना समय आप के ब्लॉग पर लिखी पोस्ट पढने मैं ही लगाऊंगा. रोज यांत्रिक समस्याओं से झूझते रहने से अच्छा है की आप की बात को पढ़ा और गुना जाए. इसी मैं निर्मल आनंद है.कुछ लोगों को साधारण सी बात समझने मैं भी बहुत वक्त लगता है, मैं भी उनमें से एक हूँ लेकिन जब जागो तब सवेरा.{टिप्पन्नी का आप की पोस्ट से कोई कनेक्शन नहीं है मानता हूँ लेकिन जीवन मैं हर बात का दूसरी से कनेक्शन ढूँढते रहने मैं ही रातों को नींद नहीं आया करती }नीरज

    Like

  6. @ शृजन शिल्पी एवम पंकज अवधिया जी – मैं अभी वैचारिक मल्लयुद्ध नहीं करना चाहता। हम मतभेद पर सहमत हो सकते हैं। 🙂 मैं केवल लिंक दूंगा – धन पर श्री अरविन्द इस पोस्ट के नीचे पोस्नर-बेकर ब्लॉग के दो लिंक हैं Globalisation and Inequality पर। बड़े विचारोत्तेजक हैं। आपके कमेण्ट के लिये धन्यवाद।

    Like

  7. जो सुपात्र है धन उसी के पास होता है, से औरो की तरह सहमत नही हूँ। यह बताकर कन्ही आप हमारे देश के अरबपति नेताओ और भ्रष्ट अफसरो का मनोबल तो नही बढा रहे? कुल मिलाकर लेख की शैली रोचक है। बिना रूके पूरा पढ लिया।

    Like

आपकी टिप्पणी के लिये खांचा:

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: