गंगा भयीं पोखरा!

Bhains पानी कम हो रहा है। कम गंगा में। उभर रहे हैं द्वीप। तट पर कटान करने वाली गंगा अब उथली होती जा रही हैं। माने पोखरा की माफिक!

जैसे पोखरा में भैंसे हिलकर बैठती और मड़ियाती हैं, वही दृष्य था। सेम टु सेम। अन्तर इतना भर कि उनके आस पास का जल रुका नहीं, मन्थर गति से बह रहा था। भैंसें सांस छोड़ रही थीं तो आवाज आ रही थी। दूर फाफामऊ के पुल पर पसीजर गाड़ी के जाने और सीटी की आवाज भी थी।

अब बन्धुओं, हाईली इण्टेलेक्चुअल गद्य-पद्य लेखन के बीच यह भैंस-पुराण क्या शोभा देता है?! पर क्या करें अपने पास यही मसाला है।

बचपन में जब कविता ट्राई करी थी, तब भी ऐसा ही कुछ लिखा था – बीच तैरता भैंसों का दल, गंगा के नयनों में काजल। तब गंगा स्वच्छ थीं। धवल। उसमें भैंसें काजल सी सजी लगती थीं। अब तो पीले-ललछरहों पानी में ऐसा लगता है मानो कुपोषित नारी ने जबरी काजल ढेपार लिया हो।

खैर एक उच्छवास के साथ यह वीडियो प्रस्तुत कर रहा हूं – गंगा में हिलती-बैठी-मड़ियाती भैंसों के।  

पानी में जा रही भैंसें

मड़ियाती भैंस


Published by Gyan Dutt Pandey

Exploring village life. Past - managed train operations of IRlys in various senior posts. Spent idle time at River Ganges. Now reverse migrated to a village Vikrampur (Katka), Bhadohi, UP. Blog: https://gyandutt.com/ Facebook, Instagram and Twitter IDs: gyandutt Facebook Page: gyanfb

28 thoughts on “गंगा भयीं पोखरा!

  1. देव !विशुद्ध काव्य-मय प्रस्तुति है यह !सहज ही मिल गया — काजल ढेपार !इतना भरोसा आ जाता है आपकी वैविध्यमय पोस्टों को देखकर कि जिसदिन आपका रुख गाँव की ओर हो गया उस दिन ग्राम्य – जीवन की सशक्त उपस्थिति ब्लॉग-जगत पर हो जायेगी !यहाँ वह पाता हूँ जो कहीं नहीं मिलता ! आभार !.होली की ढेर सारी शुभकामनाएं !!!!!!!!

    Like

  2. आपका भैंस पुराण भी कम इण्टेलेक्चुअल नहीं है… होली की बहुत शुभकामनायें …!!

    Like

  3. आप महान कवि हैं, आपको नमन..क्या बिम्ब हैंचा है…भैसों को नयनों का काजल.अब काहे कविता लिखना बंद कर दिये हैं??गंगा की स्थितियाँ चिन्तनीय हैं.

    Like

  4. Boss, aapki tab ki kavita ko aaj ke yatharth me dekhein to ekdam sahi hai…..ganga naam jab bhi sunta ya padhta hu to mujhe, bhupen hajarika jee ka gaya hua yah geet yaad aa jata hai," Vistar hai apar praja dono par kare hahakar nishabdha sada O Ganga tum O Ganga baheti ho kyun? Vistar hai apar praja dono par kare hahakar nishabdha sada O Ganga tum Ganga baheti ho kyun? Naitikta nashta hui manavta bhrashta hui nirlajja bhav se baheti ho kyun? Itihas ki pukar kare hunkar O Ganga ki dhar nirbal jan ko sabal sangrami samagro gami banati nahi ho kyun? Vistar hai apar praja dono par kare hahakar nishabdha sada O Ganga tum O Ganga baheti ho kyun? Anpad jan aksharhin anagin jan khadyavihin netravihin dekh maun ho kyun? Itihas ki pukar kare hunkar O Ganga ki dhar nirbal jan ko sabal sangrami samagro gami banati nahi ho kyun? Vistar hai apar praja dono par kare hahakar nishabdha sada O Ganga tum Ganga baheti ho kyun? Vyakti rahe vyakti kendrit sakal samaj vyaktitva rahit nishpran samaj ko chodti na kyun? Itihas ki pukar kare hunkar O Ganga ki dhar nirbal jan ko sabal sangrami samagro gami banati nahi ho kyun? Vistar hai apar praja dono par kare hahakar nishabdha sada O Ganga tum Ganga baheti ho kyun? Prutasvini kyun na rahi? Tum nischai chitna nahi prano mein prerna preeti na kyun? Unmat avani Kurukshetra bani Gange janani nava Bharat mein Bhishma rupi suta samarajayi janati nahi ho kyun? Vistar hai apar praja dono par kare hahakar nishabdha sada O Ganga tum Ganga baheti ho kyun? Vistar hai apar praja dono par kare hahakar nishabdha sada O Ganga tum Ganga baheti ho kyun? Vistar hai apar praja dono par kare hahakar nishabdha sada O Ganga tum Ganga tum Ganga tum O Ganga tum O Ganga tum Ganga baheti ho kyun? Ganga baheti ho kyun? mujhe pataa nahi kabhi aapne bhupen hajarika ki awaz me kabhi is geet/gaane ko suna hai ya nahipar agar na suna to pls suniyega jarur

    Like

  5. कुछ साल पहले बड़े उल्लास के साथ हरिद्वार गये थे जिन्दगी में पहली बार गंगा को देखने। उसके पहले तो सिर्फ़ फ़िल्मों में देखा था। वहां भी गंगा का यही हाल था जो आप दिखा रहे हैं बल्कि वहां तो पानी इससे भी कम था। उदास मन से लौट आये थे।

    Like

  6. शुक्र है मनुष्य की करतूतों के बावजूद भी अभी तक गंगा बह रही है वरना मनुष्य ने तो इसके अस्तित्व को मिटाने का पूरा प्रबंध कर ही दिया है |

    Like

  7. …भैंसें सांस छोड़ रही थीं तो आवाज आ रही थी। दूर फाफामऊ के पुल पर पसीजर गाड़ी के जाने और सीटी की आवाज भी थी। बीच तैरता भैंसों का दल,गंगा के नयनों में काजल। अब बन्धुओं, हाईली इण्टेलेक्चुअल गद्य-पद्य लेखन के बीच यह भैंस-पुराण क्या शोभा देता है?!पर क्या करें अपने पास यही मसाला है।और हमें यह मसाला पसंद है !होली मुबारक,आभार!

    Like

  8. दूसरे विडियो का इस्तेमाल च्युंगम कंपनी वाले विज्ञापन के लिये बखूबी कर सकते हैं- भैंस चबाये च्युंगममिटाए अपने सारे गम टिंग टोंग 🙂

    Like

आपकी टिप्पणी के लिये खांचा:

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: