Blog


ओम प्रकाश यादव वाचमैन


अब तनख्वाह के रूप में कुछ कम मिलता है। पर ट्रक वाले, भले ही खाना नहीं खाते ढाबे पर, रात में आराम के लिये आसपास रुकने लगे हैं। अधिकतर वे अपना खाना खुद बनाते हैं। पर उनके ट्रकों की देखभाल का काम करते हैं ओमप्रकाश।

प्रो. अशोक सिंह – अगियाबीर के पुरातत्व खोजी के संस्मरण


यह सौभाग्य है कि डा. अशोक सिंह अपने संस्मरण सुनाने को राजी हो गये। आज उस कड़ी में पहला पॉडकास्ट है जिसमें वे अगियाबीर की खोज की बात बताते हैं। उनके संस्मरण बहुत रोचक हैं। आप कृपया सुनने का कष्ट करें।

भदोही जनपद का इतिहास और पुरातत्त्व – डा. रविशंकर जी का पॉडकास्ट


पॉडकास्ट का अपना अलग शऊर है, अपना अलग आनंद। आप इस विषय पर पॉडकास्ट सुनने का कष्ट करें। उम्मीद है यह अच्छा ही होगा। डा. रविशंकर ने उसमें बड़े पैशन से बोला है – वे आर्कियालॉजी ओढ़ते बिछाते हैं।

रस्सी बनाने की मशीन – गांव की आत्मनिर्भर सर्क्युलर इकॉनॉमी का नायाब उदाहरण


मोटर साइकिल पर लदी वह गियर सिस्टम वाली रस्सी बुनने की मशीन, हैण्डल घुमाने वाला बच्चा और रस्सी बुनने वाला वयस्क – ये तीन मुख्य घटक थे। इन तीनों के योग से कितनी शानदार रस्सी बनाने की मोबाइल दुकान बन गयी थी।

Loading…

Something went wrong. Please refresh the page and/or try again.

ज्ञान दत्त पाण्डेय

मेरे बारे में

नमस्कार, मैं ज्ञान दत्त पाण्डेय, एक भारतीय रेल सेवा से रिटायर्ड रेल अफसर हूं। मैं रेलवे के विभागध्यक्ष पद से रिटायर हुआ। अब मैं पूर्वी उत्तर प्रदेश (भारत) के एक गांव में रह कर अपनी साइकिल से आसपास के ग्रामीण जीवन को देखता हूं।

Subscribe to My Blog

Get new content delivered directly to your inbox.