मैं सारथी हूं


तुम्हें याद न होगा पार्थकि तुम पार्थ होमैं जन्म-जन्मांतरों मेंतुम्हारे रथ की डोरअपने हाथ में रखदिलाता रहा हूं तुम्हें विजयतुम्हारे विषाद-योग ग्रस्त होने परललकारता रहा हूंकहता रहा हूं तुम्हें दुर्बल-नपुंसकबनाता रहा हूं तुम्हें निमित्तदेता रहा हूं आश्वासनतुम्हें समीप होने कातुम्हें प्रिय होने कातुम्हें अंतत: विजयी होने काअनेक प्रकार सेअनेक रूपों मेंअनेक युगों मेंतुम्हारी उंगली पकड़ेContinue reading “मैं सारथी हूं”

हुसैन क्यों फंसे हैं?


हुसैन ने हिन्दू देवी-देवताओं के नग्न चित्र बनाये हैं. यह बड़ा रोचक होगा देखना कि भारत का सहिष्णु समाज उन्हें अंतत: कैसे छोड़ देगा. अल्पसंख्यक कार्ड उनके पक्ष में जाता है. यह अवश्य है कि मेरे मन में अगर इरोटिका का भाव होता (जो नहीं है) और मैं चित्रकार होता (जो बिल्कुल नहीं है), तबContinue reading “हुसैन क्यों फंसे हैं?”

क्रोध पर नियंत्रण कैसे करें?


मेरे घर और दफ्तर – दोनो जगहों पर विस्फोटक क्रोध की स्थितियां बनने में देर नहीं लगतीं। दुर्वासा से मेरा गोत्र प्रारम्भ तो नहीं हुआ, पर दुर्वासा की असीम कृपा अवश्य है मुझ पर. मैं सच कहता हूं, भगवान किसी पर भी दुर्वासीय कृपा कभी न करें. क्रोध पर नियंत्रण व्यक्ति के विकास का महत्वपूर्णContinue reading “क्रोध पर नियंत्रण कैसे करें?”