पानी की सुराही बनाम पानी का माफिया



पानी के पुराने प्रबन्धन के तरीके विलुप्त होते जा रहे हैं। नये तरीकों में जल और जीवों के प्रति प्रेम कम; पैसा कमाने की प्रवृत्ति ज्यादा है। प्रकृति के यह स्रोत जैसे जैसे विरल होते जायेंगे, वैसे वैसे उनका व्यवसायीकरण बढ़ता जायेगा। आज पानी के साथ है; कल हवा के साथ होगा।

और जल पर यह चर्चा आज की श्री पंकज अवधिया की बुधवासरीय अतिथि पोस्ट का विषय है। आप पोस्ट पढ़ें:


पिछले साल मेरे एक मित्र ने पहली बार हवाई यात्रा करने का मन बनाया। सामान लेकर हवाई अड्डे पहुँचे तो बखेडा खडा हो गया। सुरक्षा कर्मी आ गये। गर्मी के दिन थे इसलिये रेल यात्रा करने वाले मित्र ने सुराही रख ली थी। अब विमान कम्पनी वाले यात्री केबिन मे इसकी अनुमति दे तो कैसे दें। उनकी नियमावली मे भी सुराही का जिक्र नही था। मित्र ने पूछा ये भारत ही है न? यदि हाँ, तो सुराही मे पानी रखने मे भला क्या आपत्ति? सुरक्षा कर्मियो ने खूब जाँच की और विमर्श भी किया। आखिर उनसे उनकी सुराही ले ली गयी। मित्र बोतल का पानी नही पीते हैं। इसलिये उन्हे बडी परेशानी हुयी। यह बडा ही अजीबोगरीब वाक्या लगा सभी को। दूसरे यात्री उन्हे देहाती समझते रहे पर आप इस पर गहनता से विचार करेंगे तो इस तथाकथित देहाती को ही सही पायेंगे।

मैने बचपन मे सुराही के साथ यात्रा की, पर पता नही कब देखते-देखते यह हमारे बीच से गायब हो गयी। अब तो रेलो मे भी इक्का-दुक्का लोगो के पास ही यह दिखती है। गर्मी पहले भी पडती थी। तो क्या पहले हम मजबूत थे और अब नाजुक हो गये हैं? सुराही का पानी ठंडा होता था और प्यास को बुझाता था। एक पूरी पीढी हमारे सामने है जिसने घड़े और सुराही का पानी पीया है गर्मियो में। उनके अभी भी बाल हैं, वे अच्छी सेहत वाले हैं और बीमारियाँ उनसे दूर है पर युवा पीढी सुराही और घड़े से दूर होती जा रही है और नये-नये रोगो के पास।

अभी कुछ ही वर्षो पहले तक अखबारो मे छपता था कि फलाँ क्लब ने प्याऊ खुलवाया जिससे राहगीरो को सड़क चलते पानी मिल सके। पर अब ऐसी खबरे और प्याऊ दोनो ही कम होते जा रहे है। पिछले वर्ष जब हमने अपने घर के सामने प्याऊ खोलने का मन बनाया तो इसकी भनक लगते ही एक व्यक्ति आ धमका और कहा कि आप प्याऊ खोलेंगे तो हमसे पानी का पाउच कौन खरीदेगा? हम अपनी जिद पर अड़े रहे तो वह नगर निगम के कर्मचारियों को ले आया और वे नियम का हवाला देने लगे। यहाँ तक कह दिया कि यदि कोई पानी पीने से मर गया तो आप पर केस बनेगा। बाद मे पता चला कि पूरे शहर मे पानी माफिया का राज है और कहीं प्याऊ खोल पाना मुश्किल है। एक रास्ता है यदि आप प्याऊ मे घड़े की जगह उसके पाउच रखेंगे तो फिर कोई परेशानी नही है।

मै दूरस्थ क्षेत्रो मे जाता हूँ तो वनवासियो की सहृदयता देखकर अभिभूत हो जाता हूँ। पानी तो पिलाते ही हैं साथ ही पुदीने का शरबत भी पेश करते हैं। देखते हैं कि भरी दोपहरी मे जंगल जा रहे हैं तो तेन्दु के कुछ फल भी दे देते है ताकि प्यास न लगे। वे अपने घरों मे मिट्टी के बर्तन लटका कर उसमे पानी भर देते हैं। दिन भार नाना प्रकार के पंछी आकर पानी पीते रहते हैं। कुछ दाने चावल के भी डाल देते हैं। शहर के लोग टीवी वाले बाबाओं के पास जिन्दगी भर जाकर जो पुण्य कमाते हैं ग्रामीण उसे एक पल मे ही प्राप्त कर लेते हैं। गाँव के बुजुर्ग कहते हैं कि हम दूसरो को पानी देंगे तो संकट मे हमे भी पानी मिलेगा अपने आप। सही भी है। जो पंछी पानी पीकर जीवित रहते है वे ही फल खाकर बीजों को फैलाते हैं और फिर नये वन तैयार होते हैं। ये वन ही बादलो को बुलाते हैं और गाँव वालो के लिये पानी बरसाते हैं। शहर का आदमी तो अपने तक सीमित रह गया है। दूसरों को कुछ देता नही तो उसे दूसरो से भला क्या मिलेगा? कल ही पानी वाले व्यक्ति अपने बच्चे के साथ आया। बच्चे को कम उम्र में कैसर हो गया है। लाखो खर्च कर चुके है और कुछ भी करने को तैयार है वह। मुझसे पारम्परिक चिकित्सकों का पता पूछने आया था। मैने उसकी मदद की और यही सोचता रहा कि आम लोगो की दुआए साथ होती तो हो सकता है कि बच्चा बीमार ही नही होता। उसने खूब पैसे कमाये और साथ मे “आहें” भी। आज सब कुछ पाकर भी वह सबसे गरीब हो गया है।

मैने विश्व साहित्य खंगाला कि शायद कही ऐसा वैज्ञानिक शोध मिल जाये जो बताये कि सुराही और घड़े का पानी अच्छी सेहत के लिये जरुरी है पर निराशा ही हाथ लगी। किसी ने इस पर शोध करने के रुचि नही दिखायी। आज की युवा पीढ़ी को वैज्ञानिक अनुमोदन चाहिये किसी भी पुरानी चीज को अपनाने से पहले। घर के बुजुर्गों की बात उन्हे नही सुननी है। घडे और सुराही के पानी के साथ देशी औषधियों के सेवन पर मेरे शोध आलेखो को पढने के बाद अब कई विदेशी संस्थाओं ने इस मूल्यवान पानी के बारे मे विचारना शुरु किया है। हमारे वैज्ञानिक अभी भी सो रहे हैं। शायद वे तब जागे जब बाजार मे चीनी और अमेरिकी घड़े बिकने लगें।

पंकज अवधिया
© इस लेख का सर्वाधिकार श्री पंकज अवधिया का है।


इलाहाबाद में घड़े-सुराही के चित्र के लिये बाजार देखा तो अच्छा लगा कि बहुत स्थानों पर कुम्हार लोग इनका ढ़ेर लगाये सड़कों के किनारे उपलब्ध थे। इसके अलावा गर्मी के सामान – ककड़ी-खीरा, गन्ने के रस के ठेले आदि विधिवत अपनी अपनी जगहें बना चुके थे। हां, कोई प्याऊ नहीं लगती दिखी। शायद कुछ समय बाद लगें।

मुझे अपने रतलाम के दिनों की याद है – जहां गर्मियों में स्टेशनों पर प्याऊ लगाने के लिये 25-50 आवेदन आया करते थे। यहां, पूर्वांचल की दशा के बारे में पता करूंगा।


जल का क्लोरीनेशन और अन्य समस्याओं पर विचार



पिछली बुधवासरीय अतिथि पोस्ट में श्री पंकज अवधिया ने भूमिगत जल और उसके प्रदूषण पर विस्तृत जानकारी दी थी। आज के उनके इस लेख में भी जल पर और कोणों से चर्चा है। विशेषत: उन्होने क्लोरीनेशन के विषय में आम अल्पज्ञता के बारे में प्रकाश डाला है।

उनके पुराने लेख आप पंकज अवधिया के लेबल सर्च से देख सकते हैं।

आप लेख पढ़ें:


इस बार पिछली पोस्ट की चर्चा को आगे बढ़ाते हुये जल पर ही बात करेंगे। आम तौर पर जिस पेय जल की आपूर्ति की जाती है घरो में, उसे शुद्ध करने के लिये क्लोरीन का प्रयोग होता है। बरसात के दिनो मे क्लोरीन की मात्रा बढ़ा दी जाती है। स्वीमिंग पूल मे भी पानी को शुद्ध रखने के लिये क्लोरीन का प्रयोग होता है। क्या कभी आपके मन मे यह बात आयी कि क्लोरीन शरीर के लिये लाभप्रद है या नुकसानदायक? लगातार क्लोरीन का प्रयोग कहीं हमे बीमार तो नही कर रहा है? पिछ्ले दिनो नेट पर सर्फिंग के दौरान मेरी नजर इस चेतावनी पर पड़ी:


“Chlorine is the greatest crippler and killer of modern times. While it prevented epidemics of one disease, it was creating another. Two decades ago, after the start of chlorinating our drinking water in 1904, the epidemic of heart trouble, cancer and senility began.”
(….. क्लोरीनेशन ने एक महामारी खतम की पर दूसरी सृजित कर दी। क्लोरीनेशन के १९०४ में प्रारम्भ करने के दो दशक बाद हृदय रोग, केंसर और जल्दी बुढ़ाने की महामरियां शुरू हो गयीं।)
SAGINAW HOSPITAL
J.M. Price, MD
######

“Scientists found there was a higher incidence of cancer of the esophagus, rectum, breast, and larynx and of Hodgkins Disease among those drinking chlorinated surface waters.”

“Volatile organics can evaporate from water in a shower or bath.”
“Conservative calculations indicate that inhalation exposures can be as significant as exposure from drinking the water, that is, one can be exposed to just as much by inhalation during a shower as by drinking 2 liters of water a day.”
“People who shower frequently could be exposed through ingestion, inhalation and/or dermal absorption.”
IS YOUR WATER SAFE TO DRINK?
Consumer Reports Books

######

Chlorinated Drinking Water Linked to Cancer

November 21, 1999 The Toronto Star
Task force to conduct tests in hundreds of communities
Ottawa (CP) – A new federal analysis concludes that chlorinated drinking water may pose a cancer risk to humans, particularly the risk of bladder cancer.

—– —–
One of the most effective ways to reduce concentrations of the chemicals is to use filtration.

But many communities, especially smaller ones, don’t have up-to-date filtration systems.
######


यदि आप विश्व में इस विषय पर उपलब्ध सामग्री को देखेंगे तो आपको पता चलेगा कि बहुत से विशेषज्ञों ने पीने के पानी को क्लोरीन से उपचारित करने पर आपत्ति दर्ज की है। दुनिया भर मे इसकी चर्चा भी हो रही है। पर भारत मे कभी भी इस पर आम चर्चा नहीं हुयी। आज हमारे देश मे भ्रष्टाचार का जहर सब जगह फैल रहा है। जिन लोगों पर पानी को साफ रखने का जिम्मा है क्या वे अपना कार्य सही तरीके से निभा रहे हैं? कहीं कमीशन के नाम पर घटिया क्लोरीन तो नही मिलायी जा रही? क्या सही मात्रा मे क्लोरीन मिलायी जा रही है? क्या उन्हे पता है कि अधिक क्लोरीन जानलेवा भी बन सकती है? पिछले दिनों मै क्लोरीन मिलाने का कार्य करने वाले लोगो से मिला तो उनके विचार सुनकर ढंग रह गया। उन्हे तो पता ही नही है कि अधिक मात्रा मे क्लोरीन नुकसानदायक है। वे कहते है जितनी अधिक क्लोरीन उतना अधिक शुद्ध पानी। पूरे देश मे यही स्थिति है।

क्लोरीन के प्रयोग से विशेष प्रकार के सूक्ष्मजीव नष्ट होते है। दशकों से ऐसा माना जा रहा है। कहीं इसके नियमित प्रयोग से सूक्ष्मजीवो मे प्रतिरोध तो विकसित नहीं हो गया जैसा कि खेती के क्षेत्र मे हम देखते-सुनते रहते हैं? क्या क्लोरीन इन अधिक प्रतिरोधक क्षमता वाले सूक्ष्मजीवों को मार पा रहा है या फिर हम क्लोरीन भी पी रहे है सूक्ष्मजीवों के साथ?

पिछले दशकों मे स्वास्थ्य सुविधाओं मे जबरदस्त इजाफा हुआ है पर रोग और रोगी कम होने की बजाय बढ़ रहे हैं। आयोडीन वाले नमक का ही उदाहरण लें। पहले सबको आयोडीन युक्त नमक खिलाया और अब जिसे देखो थायराइड की समस्या हो रही है। आज थाइराइड की दवाओं का जबरदस्त बाजार बन गया है भारत। किसी ने ठीक ही कहा है पहले दर्द दिया फिर दवा की।

मै एक छोटे से किट की उम्मीद वैज्ञानिकों से करता हूँ जिससे कि आम आदमी चन्द मिनटों मे जान सके कि पानी पीने लायक है या नहीं। यदि नही है तो वह इस किट के आधार पर शिकायत दर्ज करा सके। पर यह किट बनायेगा कौन? एक कम्प्यूटर प्रोग्राम बनाना है तो ढेरो लोग मिलेंगे आपको इस देश में। कम्प्यूटर के सिवा किसी और विषय मे विशेषज्ञ मुश्किल से मिलेंगे। आगे स्थिति और भयावह होने वाली है। होशियार बच्चे मैनेजमेंट और आई.टी. मे ही जाना चाहते हैं। भूजल विज्ञान, वनस्पति विज्ञान जैसे विभाग सूने पडे हैं। कौन भूजल की चिंता करेगा? कौन वनस्पतियों को बचायेगा आने वाले दिनो में? फिर अपने देश के साधनो से पढकर विदेश चले जाना और वहाँ से देश के उत्थान की बात करने की गलत परम्परा चल पड़ी है।

जैसा पाठकों ने अपनी टिप्पणियों मे लिखा कि जल से जुडी समस्याओं का समाधान खोजना जरुरी है। यह आम आदमी के जीवन से जुड़ी समस्या है। खली पर लोगो का समय बर्बाद कर रहे टीवी चैनलो से इन समस्याओं पर पहल की उम्मीद बेमानी है। फिल्मी गाने मे मगन रेडियो चैनल की मदद भी नही मिल सकती। लेखक इस पर लिख कर अलख जगा सकते हैं। पर देश मे निष्पक्ष लेखकों का टोटा है। लेखक राजनीतिक पार्टियो की तरह खेमों मे बँटे है। वे केन्द्र की सरकार को दोषी बतायेंगे और जब सरकार बदलेगी तो विपक्ष के लेखक नयी सरकार को दोष देंगे। ये नही करेंगे समस्याओ का समाधान। गैर-सरकारी संगठनों के पास खुद का पैसा नही होता। जो पैसा देता है उसी का काम वे करते हैं। मुझे लगता है कि मुठ्ठी भर ही सही पर आम लोग ही यह कठिन कार्य कर सकने का बीड़ा उठा सकते हैं। आम लोगो को समस्या की विकरालता बताने की जरुरत है। उन्हे कुछ डराने की भी जरुरत है।

मै आपको नियमगिरि का उदाहरण देना चाहूंगा। यहाँ बाक्साइट का खनन होना है। जाहिर है जंगल बरबाद होंगे। लोगो ने खूब शोर मचाया पर असर नहीं हुआ फिर किसी विशेषज्ञ ने बताया कि इस पर्वत मे कई नदियों का उदगम है जो कि उडीसा और आन्ध्र प्रदेश की कई बड़ी नदियो मे जल के स्तर को बनाये रखती हैं। खनन से इन नदियों पर असर होगा। नदी पर असर मतलब पीने के पानी की कमी और फिर खेती के लिये पानी की कमी। आम लोगों और राजनेताओ के कान खड़े हो गये। इस सरल व्याख्या से वे भी खनन के विरोध मे आ खड़े हुये।

वनस्पतियो पर लिखते हुये मै पानी पर आ गया। यह तो ज्ञान जी का आशीर्वाद है कि पानी पर पिछली पोस्ट को उन्होने अच्छे से प्रस्तुत किया और मुझे एक और पोस्ट लिखने का साहस दिया। पाठको ने पिछले लेख को पसन्द किया। आशा है यह लेख भी आप लोगो को पसन्द आयेगा।

पंकज अवधिया

© लेख पर सर्वाधिकार श्री पंकज अवधिया का है।


क्लोरीन की अधिकता जल को अप्रिय बनाती है – यह अहसास मुझे था। पर वह हृदय रोग, केंसर और जल्दी बुढ़ाने की महामरियां प्रारम्भ करने में सक्षम है – यह मुझे नहीं ज्ञात था। वाराणसी में रेलवे अस्पताल के डॉक्टर कॉलोनी और मण्डल के अन्य स्टेशनों के जल के सेम्पल ले कर मेरे पास रिपोर्ट भेजते थे और यह प्रमाणित करने का प्रयास करते थे कि पेट के रोगों के मामले बढ़ने का मुख्य कारण क्लोरीनेशन का अभाव है। पर क्लोरीनेशन के कारण होने वाली समस्या पर उन्होने कभी ध्यान आकर्षित नहीं कराया।

यह पोस्ट मेरे अपने लिये एक न्यूज वैल्यू रखती है। मैं सामान्यत: यात्रा नहीं करता; पर कभी बरसात के महीने में यात्रा करते समय पानी की शुद्धता के लिये क्लोरीन टेबलेट/कंसंट्रेट ले कर चलने का विचार मन में अवश्य आया था। अब मैं दुबारा सोचूंगा। काफी समय तक टैप में जीरो-बी फिल्टर अटैचमेण्ट का प्रयोग किया था, जिसका कार्ट्रिज 10-12 महीने पर बदलते थे हम। अब तो घर में सादे दो कण्टेनर वाले फिल्टर का प्रयोग भर होता है, जिसके पोरस केण्डल समय समय पर साफ कर लेते हैं।