बिल्ला, जोला और कल्लू


सिद्धार्थ और हम गये थे गंगा तट पर। साथ में उनका बेटा। वहां पंहुचते रात घिर आई थी। आज वर्षा का दिन था, पर शाम को केवल बादल क्षितिज पर थे। बिजली जरूर चमक रही थी। बिल्ला, जोला और कल्लू मछेरा समेटे जाल के साथ गंगा माई बढ़ी नहीं हैं पहले से। अंधेरे में मछेरेContinue reading “बिल्ला, जोला और कल्लू”