गांवदेहात में नजदीक आता कोरोनावायरस और बढ़ता तनाव

कोरोना फैलाव से तनाव बढ़ रहा है तो वह जातिगत सम्बंधों में दिखने लगा है। जाति समीकरण भंगुर प्रतीत होते हैं। मनरेगा में भी एक जाति वाले दूसरी जातियों से सोशल डिस्टेंस बना कर काम कर रहे हैं।


कल बाबूसराय के राजू जायसवाल के किराना स्टोर पर जा कर महीने का सामान उठाना था। रविशंकर जी ने कहा कि आप आने से पहले फोन कर पता कर लीजियेगा। अभी अभी पता चला है कि पास के गांव में कोरोना का एक पॉजिटिव मामला सामने आया है। बड़ी संख्या में पुलीस और सरकारी अमला आया है।

रविशंकर की आवाज में थोड़ी हड़बड़ाहट थी। भदोही जिले का यह ग्रामीण इलाका अब तक शांत था। महामारी के प्रकोप से बचा हुआ। मुम्बई से आये एक व्यक्ति को नारायणपुर-कलूटपुर गांव में पॉजिटिव पाये जाने से सब माहौल खलबला गया है। गांव सील कर दिया है। उसके अलावा लोग हदस गये हैं।

मेरा वाहन चालक बताता है कि अनेक गांव वाले खुद ही अपने गांव की बैरीकेडिंग करने लगे हैं। किसी बाहरी को आने नहीं देना चाहते।

पास के एक गांव में कुछ लोग बम्बई से आये हैं पर उनकी तहकीकात करने जब भी पुलीस आती है, वे छुप जाते हैं। उनके परिजन निश्चय ही मदद करते होंगे छुपने में। इस बात को ले कर तनाव रहा होगा, तभी उनकी जाति और अन्य के बीच मारपीट भी हो गयी है। पुलीस केस बना है मारपीट से।

Continue reading “गांवदेहात में नजदीक आता कोरोनावायरस और बढ़ता तनाव”

लॉक डाउन : महा भीर बैन्कन के द्वारे

जो लाइन लगी है, वह केवल खाते से पैसा निकालने के लिये नहीं है। बहुत से तो मात्र यह जानना चाहते हैं कि खतवा में पईसवा आइ कि नाहीं (खाते में पैसा आया है या नहींं)।


तुलसी बाबा की चौपाई है – महा भीर भूपति के द्वारे, रज होई जाई पसान पोवारे। (राजा के द्वार पर भारी भीड़। शिलाखण्ड भी फैंका जाये तो भीड़ में पिस कर मिट्टी बन जाये)। आजकल बैंकों की ग्रामीण शाखाओं में वैसा ही माहौल है।

सरकार ने पैसा दिया है ग्रामीणों, गरीबों को। अपने मुड़े तुड़े बैंक के पासबुक लिये ग्रामीण बैंक के सामने लाइन लगा रहे हैं। हर एक ब्रांच के बाहर वही दृष्य है। कुछ दिन तो घोर अव्यवस्था/अराजकता थी। अब बैंक की सिक्यूरिटी वाले सोशल डिस्टटेंसिंग के नॉर्म के आधार पर गोले खींच कर उसमें बैठने के लिये अनुशासित कर रहे हैं लोगों को।

बैंक के बाहर दूरी बना कर अपने अपने गोले में खड़े लोग-लुगाई
Continue reading “लॉक डाउन : महा भीर बैन्कन के द्वारे”

सढ़सठ साल के राजन भाई कोरोना-काल में अतिरिक्त सतर्क हैं

उन्हें अहसास है अपनी बढ़ती उम्र, इम्यूनिटी का घटता स्तर, और इम्युनिटी बढ़ाने की जरूरत का। जितना गम्भीर वे हैं, उस स्तर पर सभी 65 पार लोगों को होना चाहिये।


साढ़े चार साल पहले जब मैं रिटायर हो कर गांव में आया था, तो साइकिल भ्रमण के साथी बने राजन भाई। मुझसे उम्र में दो-ढाई साल बड़े हैं, पर मुझसे कम उम्र के लगते हैं। उस समय उन्होने मुझे बताया था कि लगभग 12 किलोमीटर रोज साइकिल चलाते थे। शरीर पर कहीं अतिरिक्त चर्बी नहीं। फ़िट्ट लगते थे।

उसके बाद पाया कि देखने में कुछ तकलीफ़ होने लगी थी उनको। मोतियाबिन्द शायद पहले थे था, पर अब ज्यादा बढ़ गया था। उसके ऑपरेशन के लिये इधर उधर भटके। एक बार डाक्टर तय किया तो पता चला कि डाइबिटीज है उनको और चूंकि कभी नियन्त्रित करने का प्रयास नहीं किया था, ब्लड शूगर ज्यादा ही था। डाक्टर ने कहा कि जब तक वे अपना शुगर लेवल कण्ट्रोल नहीं कर लेते, ऑपरेशन नहीं करेंगे। कण्ट्रोल के नाम पर सेल्फ मेडिकेशन के आधार पर आयुर्वेदिक दवा, करेले का जूस छाप उपक्रम किये उन्होने। पर डाक्टर ने दूसरी बार भी उनका शूगर लेवल शल्य चिकित्सा लायक नहीं पाया।

उसके बाद उनके दोनो बेटों ने, लगता है काफ़ी लताड़ा उन्हे। फिर उन्हें अपने पास दिल्ली ले कर गये। वहां लम्बे समय तक राजन भाई रहे और वापस लौटे तो आँखों का ऑपरेशन करा कर ही।

मेरे साइकिल भ्रमण के साथी राजन दुबे।
Continue reading “सढ़सठ साल के राजन भाई कोरोना-काल में अतिरिक्त सतर्क हैं”

कोविड19 लॉकडाउन काल में चिन्ना पांड़े – रीता पाण्डेय

लॉकडाउन का नियमबद्ध पालन कर रही है पद्मजा पाण्डे। सब इस लिये कि मोदी जी कहते हैं। साढ़े छ साल की चीनी अपने से दस गुना उम्रवाले प्रधानमन्त्री की जबरदस्त फ़ैन है।


यह रीता पाण्डेय की अगली अतिथि पोस्ट है –


चौदह अप्रेल, 2020

लॉकडाउन का आज समापन है। पर समापन होगा या यह आगे जारी रहेगा? सबकी नजरें प्रधानमन्त्री नरेन्द्र दामोदरदास मोदी पर हैं कि वे क्या कहने वाले हैं?

घर में साढ़े छ वर्ष की पोती है – चीनी (चिन्ना या पद्मजा) पाण्डेय। वह मोदीजी के राष्ट के नाम सन्देश को ले कर बहुत उत्सुक है। उसकी उत्सुकता इस बात को ले कर भी है कि प्रधानमन्त्री लॉकडाउन खतम कर देंगे या नहीं।

उसका मूल प्रश्न है – “अब हम मार्केट जा सकेंगे?”

Continue reading “कोविड19 लॉकडाउन काल में चिन्ना पांड़े – रीता पाण्डेय”

गांव का नाई

दो नाऊ की गुमटियां आबाद दिखीं। उनके पास करीब चार साइकलें खड़ी थीं। कोरोना लॉकडाउन समय में दो नाई काम पर लगे थे और आधा दर्जन लोग वेटिंग लिस्ट में थे।


ट्विटर और फ़ेसबुक पर कई लोगों ने हजामत सम्बन्धी लॉकडाउन युगीय पीड़ा व्यक्त की है। उनका कहना है कि लॉकडाउन से उबर कर जब बाहर आयेंगे तो बहुत से मित्रों को उनकी शक्ल पहचान में नहीं आयेगी। कुछ का कहना है कि बाल-दाढ़ी-मूंछ इतने बढ़े होंगे कि वे भालू लगेंगे।

इसमें निश्चय ही अतिशयोक्ति है। पर यह जरूर है कि नाई की दुकान शहरों में बन्द है। गांव में उतनी दारुण दशा नहीं है।

यहां कटका स्टेशन के सामने नाऊ की तीन चार गुमटियां हैं। एक ही पट्टीदारी के तीन चार नाऊ वहां सवेरे से काम पर लग जाते थे। आजकल वहां सन्नाटा है। पुलीस वाले रेलवे स्टेशन के आसपास आते रहते हैं। इस लिये वहां केवल पाल का मेडिकल स्टोर खुलता है। बाकी दुकानें बन्द रहती हैं। चाय समोसे वाले भी यदा कदा चोरी छिपे बना-बेच लें; वर्ना उनकी चट्टी भी बन्द है।

हमारा ऑफ़ीशियल नाऊ – सुन्दर शर्मा की भी वहां गुमटी है। आजकल बन्द रहती है। उसे घर बुलाया था। अपनी कैंची, कंघी दी और उसके अन्य उपकरण साबुन से धुलवा कर सेनीटाइजर भी मला उनपर। तब उसने बाल काटे। सो हमारा काम तो चल गया।

आज एक गांव में, प्रधानमन्त्री ग्रामीण सड़क के किनारे दो नाऊ की गुमटियां आबाद दिखीं। उनके पास करीब चार साइकलें खड़ी थीं। दो नाई काम पर लगे थे और आधा दर्जन लोग वेटिंग लिस्ट में थे। नाई द्वय के लिये बिजनेस जोरदार था।

कहीं कहीं लोग खोंचा (मास्क या गमछा) मुंह पर लगाये सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन करते नजर आते हैं और कहीं कहीं इस उलट प्रकार के दृष्य भी दिखते हैं। … लोग सिर के बाल तो क्या, रोज रोज की दाढ़ी बनवाने के लिये भी नाऊ की सेवाओं का उपभोग कर रहे हैं। अपनी शेव भी खुद नहीं बनाते। शहर में यह रईसी कहां!

अभी सवेरे के सात भी नहीं बजे थे और इतने लोगों की आमद! मैं सोशल डिस्टेन्सिन्ग का पालन कर रहा था, इसलिये वहां रुका नहीं। वर्ना साइकिल से उतर कर रेट पूछता – लॉकडाउन के चक्कर में नाई ने रेट तो नहीं बढ़ा दिये? … वैसे गांव वाले एक अधेला एक्स्ट्रा नहीं देते। कुछ तो उधारी हेयर कट करवाने/दाढ़ी बनवाने में यकीन करते हैं।

हां, नाई और कई ग्राहक मास्क लगाये-लटकाये जरूर थे। कोरोना वायरस का कुछ लिहाज तो कर रहे हैं लोग।

शहर और गांव – दोनों में लॉकडाउन है पर दोनो लॉकडाउन की प्रकृति में अन्तर है। कोरोना भारत में हवाई जहाज से उतरा है और शहरों के इर्दगिर्द मंडरा रहा है। वह इण्टीरियर मे जितना घुसा है उतना गहन वहां लॉकडाउन हुआ है।


नाई की दुकान में जाने की आवृति क्या होनी चाहिये?

मैं कभी फ़ैशनेबल नहीं रहा। बचपन से ही कोई चार्म नहीं था बालों के साथ। पिताजी नहीं चाहते थे कि बाल लम्बे हों। नाई को बाल आधा इन्च से ज्यादा न रहने देने के निर्देश हुआ करते थे। वही आदत चलती रही। उसका परिणाम यह हुआ कि बिट्स, पिलानी के दिनों में कोई लड़की हम पर मोहित ही न हुई। राजेश खन्ना स्टाइल बालों का जमाना था और हमारे बाल किसी रन्गरूट की तरह होते थे – क्र्यू-कट। सो बचपन से ही नाई के पास जाने की आवृति एक महीने से ज्यादा नहीं रही। बाल बढ़ ही न पाते थे।

ज्यों ज्यों उम्र बढ़ी, बाल महीन होते गये। पीछे का एक हिस्सा लगभग खाली भी हो गया। अब बाल दो-ढाई महीने में भी इतने नहीं बढ़ते कि नाऊ ठाकुर के दर्शन किये जायें। ढाई महीने बाद भी आवश्यकता महसूस होती है कि नाई केवल साइड के और पीछे के बाल ठीक कर दे। खत बना दे और कानों पर उग आये बालों को कैंची से निप कर दे। इस जरा से काम के लिये जब वह पूरी हेयर कटिंग का चार्ज लेता है तो व्यक्तित्व में छिपे कन्जूस जी को बड़ा कष्ट होता है।

आप कितने दिन बाद नाऊ ठाकुर के दर्शन करते हैं?