अचिन्त्य लाहिड़ी


श्री अचिन्त्य लाहिड़ी
श्री अचिन्त्य लाहिड़ी

अचिन्त्य पहले नॉन रेलवे के अपरिचित हैं जो गोरखपुर में मुझसे मिलने मेरे दफ्तर आये। गोरखपुर में पीढ़ियों पहले से आये बंगाली परिवार से हैं वे। उन्होने बताया कि उनका परिवार सन 1887 में बंगाल से यहां आया। सवा सौ से अधिक वर्षों से गोरखपुरी-बंगाली!

अठ्ठारह सौ अस्सी के समय में बहुत से बंगाली परिवार इलाहाबाद आये थे। मैने वहां जॉर्जटाउन और लूकरगंज में बहुत पुराने बंगले देखे हैं बंगालियों के। पर लगभग उसी समय गोरखपुर में भी बंगाली माइग्रेशन हुआ था – यह मेरे लिये नयी सूचना थी। और ब्लॉग पर प्रस्तुत करने के लिये एक महत्वपूर्ण सामग्री।

श्री अचिन्य ने मुझे बताया कि इतने पुराने समय के लगभग 20 बंगाली परिवार गोरखपुर में हैं। यह संख्या इलाहाबाद की अपेक्षा कहीं कम है। पर कालांतर में कई परिवार यहां आये बंगाल से। अचिंत्य के अनुसार लगभग 20-25 हजार परिवार हैं इस समय। अधिकांश रेलवे में नौकरी लगने के कारण आये – स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद। 1950-60 के दशक में। कुछ परिवार फर्टिलाइजर फेक्टरी में नौकरी के कारण आये। यह फेक्टरी गोरखधाम मन्दिर के पास थी और अब बन्द हो गयी है।

मैने अचिंत्य जी से पूछा कि बंगला लोगों का अपनी संस्कृति से कितना जुड़ाव है यहां गोरखपुर में? उन्होने बताया कि आजकल जुड़ाव में कमी आयी है। मसलन दुर्गापूजा के दौरान पहले 5 दिनों के कार्यक्रम में चार दिन बंगला और एक दिन हिन्दी नाटक हुआ करते थे। अब दो या तीन दिन हिन्दी नाटक हुआ करते हैं। पहले युवा पीढ़ी को बंगला समाचारपत्र और पुस्तकों में रुचि हुआ करती थी। अब वह नहीं रही।

पर वही हाल तो हिन्दी का भी है। पुस्तकें पढ़ने वाले इसमें भी कहां हैं?

अचिंत्य जी ने मुझे बताया कि गोरखपुर में बंगाली उपस्थिति के बारे में उनके पिताजी मुझे और बेहतर जानकारी दे सकेंगे। … और मैं सोच रहा हूं कि आगे कभी अपने प्रश्नों की तैयारी के साथ उनके पिताजी से मुलाकात करूंगा! जरूर!

अच्छा लगा श्री अचिंत्य ( कितना अच्छा नाम है!) जैसे भद्र व्यक्ति से मिलना!

 

चेत राम


चेतराम
चेतराम

मैं उन्हे गंगा किनारे उथले पानी में रुकी पूजा सामग्री से सामान बीनने वाला समझता था। स्केवेंजर – Scavenger.

मैं गलती पर था।

कई सुबह गंगा किनारे सैर के दौरान देखता हूं उन्हे एक सोटा हाथ में लिये ऊंचे स्वर में राम राम बोलते अकेले गंगा के उथले पानी में धीरे धीरे चल कर पन्नियों, टुकडों और रुकी हुई वस्तुओं में काम की सामग्री तलाशते। सत्तर के आसपास उम्र। गठिया की तकलीफ पता चलती है उनके चाल से। सोटे का प्रयोग वे सामग्री खोदने में करते हैं। लगभग हर मौसम में उन्हे पाया है मैने सवेरे की सैर के दौरान।

मैं जब भी फोटो खींचने का उपक्रम करता हूं, वे कहते हैं – फोटो मत खींचिये। मैं कभी अपनी फोटो नहीं खिंचाता। कहीं भी। और मैं हर बार उद्दण्डता से उनका कहा ओवरलुक कर देता हूं।

कल मैने उनके दो-तीन चित्र लिये। चित्र लेने के दौरान उन्हे किनारे खड़े एक अन्य व्यक्ति से बात करते सुना – कालि त बहुत मिला। एक बड़ा कोंहड़ा, तीन लऊकी! वे और भी मिली सामग्री का वर्णन कर रहे थे पर हवा का रुख बदलने से मैं सुन नहीं पाया ठीक से।

आज फिर वे वहीं थे। एक पन्नी में लौकी थी, एक। गंगा के पानी में विसर्जित की हुई एक पन्नी को खोल कर उसमें से नारियल निकाल रहे थे वे। फिर वह नारियल, लौकी के साथ रख लिया उन्होने।

कल फेसबुक पर लोगों ने उनकी फोटो देख कर पूछा था कि यह सब्जी गंगा के पानी में कहां से आ जाती है। वही सवाल मैने आज उन्हे से पूछ लिया:

ये लौकी कहां से आ जाती है यहां?

कुछ लोग श्रद्धा से लौकी-कोंहड़ा भी चढ़ा जाते हैं सरकार, गंगा माई को। नरियल तो चढ़ाते ही हैं।

मुझसे ज्यादा बात नहीं की उन्होने। किनारे खड़े अपने एक परिचित व्यक्ति से बतियाने लगे। उनके साथ, आसपास दौड़ते तीन कुकुर थे, जो पास में सब्जी के खेत में बार बार घुस रहे थे और सब्जी की रखवाली करने वाला अपनी अप्रसन्नता व्यक्त करते हुये उन्हे भगा रहा था।

किनारे खड़े व्यक्ति ने उनसे कहा कि वे कुकुर साथ न लाया करें।

“संघे जिनि लियावा करअ। और ढ़ेर न लहटावा करअ एन्हन के।” (साथ में मत लाया करो और इन्हे ज्यादा लिफ्ट न दिया करो।)

नहीं, अब एक दो रोटी दे देता हूं। बेचारे। इसी लिये साथ साथ चले आते हैं।

मैंने ज्यादा नहीं सुना संवाद। वापस लौट लिया। वापसी में उनसे बतियाने वाला व्यक्ति, जो अब गंगा किनारे व्यायाम करते दौड़ लगा रहा था, फिर मिल गया। मैने उससे इस वृद्ध के बारे में पूछा। और जो कुछ उन्होने मुझे बताया, बड़ा रोचक था!

“उनका नाम है चेतराम। यहीं पास में कछार के किनारे उनका अपना घर है। दिल्ली में नौकरी करते थे। रिटायर हो कर गंगा किनारे घूमने की सुविधा होने के कारण यहीं चले आये। करीब चौदह-पन्द्रह साल हुये रिटायर हुये। उनके बच्चे दिल्ली में ही रहते हैं। अकेले यहां रहते हैं। यहां अपना मकान किराये पर दे दिया है – बस एक कमरा अपने पास रखे हैं। रोज सुबह शाम आते हैं गंगा किनारे।

यहां पानी में जो भी चीज बीनते हैं, ले जा कर अपनी जरूरत की रख कर बाकी अड़ोस पड़ोस में बांट देते हैं। लौकी, कोंहड़ा और अन्य सब्जी आदि। नारियल को फोड़ कर गरी के छोटे छोटे टुकड़े कर पूरे मुहल्ले के बच्चों में बांटते हैं। गंगा किनारे यहीं रम गये हैं। बच्चों के पास दिल्ली नहीं जाते। 

कभी कभी तो बहुत पा जाते हैं बीनने में। अभी परसों ही बहुत पाये थे और ले कर नहीं जा पा रहे थे। मैं उठा कर उनके घर छोड़ कर आया था।”

उन्हे – चेतराम को; मैं स्केवेंजर समझता था। निकृष्ट कोटि का व्यक्ति। पर वे तो विलक्षण निकले। उन सज्जन ने जो जानकारी दी, उससे चेतराम जी के प्रति मेरे मन में आदर भाव हो आया। और चेतराम के व्यक्तित्व में मुझे अपने भविष्य के ज्ञानदत्त पाण्डेय के कुछ शेड़स दिखायी पड़ने लगे।

This slideshow requires JavaScript.