बखरी वाले लोग

यह गांव अगर एक ‘औसत’ गांव भर ही हो कर रह गया और इसके ढेर सारे लोग बिना कुछ किये या सिर्फ ट्रक ड्राइवरी करते रह गये तो वह इस कारण से कि वे ‘बखरी’ के खासमखास होने के परावर्तित आभामण्डल में इतराते रहे।


रवींद्रनाथ जी मुझे बताते हैं कि विक्रमपुर गांव छोटा सा गांव है। मुख्यत: चार (हिस्से के) लोगों का गांव। बखरी (अहाता), इमली के बड़े पेड़ के पास के घर – इमलिहा, पोखर के इर्दगिर्द वाले – पोखरिहा और अपने मिट्टी के घर पर चूने की छींट लगा कर सौंदर्यीकरण करने वाले – चुनहा। यही चार समूह थे – बखरी, इमलिहा, पोखरिहा और चुनहा। तीन अन्य के बारे में फिर कभी लिखूंगा। यह पोस्ट बखरी वालों पर है।

बखरी या अहाता कहा जाता था/है पण्डित देवेंद्रनाथ दुबे जी के चार बीघे की चारदीवारी वाले अहाता के घर को। देवेंद्र भाई के बाबा थे पण्डित तेजबहादुर दुबे। उनका इलाके में बहुत दबदबा था। उनके समय में ही यह घर बना था। घर की चारदीवारी शायद उनके बाद बनी।

आज बखरी में देवेंद्र भाई रहते हैं। वे, उनके तीन भाई और उनके परिवार दुमंजिले मकान और चार बीघे के अहाते में रहते हैं। मैं रेलवे लाइन के उस पार अपने मकान से अपनी जरूरत का एक लीटर दूध लेने उनके घर जाता हूं। इस प्रकार दिन में एक बार उनके यहां जाना हो ही जाता है।

Devendranath Dubey
देवेंद्रनाथ दुबे, अहाता में सवेरे की सैर करते हुये।

आज शायद देवेंद्र भाई को उठने में देर हो गयी थी। वे अपनी सवेरे की सैर, जो वे अपने अहाते के परिसर में ही करते हैं, करते दिखे। बहत्तर वर्ष की उम्र में भी वे पूरी तरह चुस्त दुरुस्त हैं। वे अपने शरीर सौष्ठव, अपने पर्सोना के बारे में बहुत सजग हैं – बहुत कुछ हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी तरह। बातचीत करने में भी वे बहुत प्रभावशाली हैं।

वे जो भी पढ़ते-सुनते हैं; उसे स्मरण रखने और उसका हाजिरजवाबी में प्रयोग करने में सिद्धहस्तता उनके पास ईश्वरप्रदत्त है। बोलने की शैली जरूर उनकी खुद की मेहनत का परिणाम है; वर्ना, जैसा मेरी पत्नीजी बताती हैं, अपनी किशोरावस्था में देवेंद्र भाई थोड़ा हकलाया करते थे। इतिहास में ऐसे कई प्रभावशाली वक्ता हुये हैं जो बचपन में stammering किया करते थे। शायद देवेंद्र भाई भी वैसे ही हैं।

गांव में गिने चुने लोग हैं जिन से पठन पाठन और पुस्तकों की बात की जा सकती है – रामायण, भागवत से इतर साहित्य की। और उनमें से एक हैं देवेंद्र भाई। या यूं कहा जाये कि इस प्रकार के वे अकेले हैं।

सत्येंद्र (मन्ना) दुबे

देवेंद्र दुबे जी के सबसे छोटे भाई हैं मन्ना (सत्येंद्र दुबे)। खेती किसानी मन्ना के जिम्मे है। हाजिरजवाबी और हास्य मन्ना में भी प्रचुर है। उनके आगे चार भाई इस दुनियाँ में आये और अपने अपने तरीके से सफल हुये; अन्यथा मन्ना अगर इकलौते होते तो भी शायद इतने ही या इससे कहींं ज्यादा प्रभावशाली होते। शायद।

गांव में एक बखरी थी/है। पर गांव का सबर्बिया बनना; गांव के एक नये प्रकार का बखरीकरण को होते देखना रोचक होगा! … बस लोग जितनी जल्दी हो, ट्रक ड्राइवरी की मीडियॉकर मनोवृत्ति से निजात पायें और कर्मठ बनें। बस! … और वे बन भी रहे हैं!

खैर, जब मैं बखरी वाले लोगों के बारे में बहुत hagiographical लिख रहा हूं; तो यह न समझा जाये कि मैं अपने ससुराल के बारे में अच्छा-अच्छा ही कहना चाहता हूं। मैंने यह भी सुना है (और ऐसा लगता भी है); कि यह गांव अगर एक ‘औसत’ गांव भर ही हो कर रह गया और इसके ढेर सारे लोग यूंही बिना कुछ किये या सिर्फ ट्रक ड्राइवरी करते रह गये; तो इसका एक कारण यह भी है कि वे ‘बखरी’ के खासमखास होने के परावर्तित आभामण्डल में इतराते रहे। अब सम्भावनायें बन रही हैं कि विक्रमपुर एक गांव से उठ कर सबर्बिया बनने जा रहा है; लोग अपनी अपनी क्षमता के अनुसार कर्म कर रहे हैं। आर्थिक आधार पर आगे के दशक अलग प्रकार के होंगे। अगर जीडीपी 8-10 परसेण्ट सालाना बढ़ी और यह गांव हाईवे के किनारे होने का लाभ ले पाया तो यहां एक नहीं यहां आधा दर्जन बखरियाँ खड़ी होने की सम्भावनायें बनती हैं। एक दो तो इसी बखरी के ऑफशूट से बनेंगी। इसी घर की अगली पीढ़ियां प्रतिभासम्पन्न हैं और उनके गांव में रीवर्स-माइग्रेट होने की सम्भावनायें भी बनती हैं। आखिर यह गांव बनारस के छोर से मात्र पच्चीस मिनट की दूरी पर है।

गांव में, रेल लाइन उस पार मेरा अपना घर। मैं बभनौटी से दूर दलित, पासी, केवट लोगों के बीच रहता हूं।

मेरे स्वसुर जी; स्वर्गीय पण्डित शिवानंद दुबे (देवेन्द्र भाई और मन्ना के चाचा) कुछ अर्थों में भविष्यदृष्टा थे। मेरी पत्नीजी बताती हैं कि वे पंचायती राज के बदलते मिजाज, गांव के बनारस के समीप आते जाने और गांव के बदलते स्वरूप के बारे में बहुत बार बहुत कहते थे और उसे मेरी पत्नी जी आश्चर्य से सुना करती थीं। उन्हीं के अंदाज में भविष्य के गांव की कल्पना करना रुचता है मुझे। और, इस इलाके के बदलते स्वरूप के प्रति मैं बहुत आशान्वित हूं।

शायद वह एक कारण है कि इस जगह को छोड़ कर कहीं और जानेवाला नहीं। 😊

गांव में एक बखरी थी/है। पर गांव का सबर्बिया (sub-urban रूपांतरण) बनना; गांव के एक नये प्रकार का बखरीकरण को होते देखना रोचक होगा! … बस लोग जितनी जल्दी हो, ट्रक ड्राइवरी की मीडियॉकर मनोवृत्ति से निजात पायें और कर्मठ बनें। बस! … और वे बन भी रहे हैं!


सावन में बाबा विश्वनाथ के कुछ “बम”

योगी बम – यह बन्दा डीजे के शोर पर नाच रहा था। मैने फोटो लेने का उपक्रम किया तो वह अपना चेहरा आगे करने लगा। मैने कहा, तुम्हारे मुंह का नहीं, पीठ का फोटो लेना है। योगी-बम का!


मौसम अच्छा था। मेघ-आच्छादित। बारिश नहीं थी। उस साल सावन के महीने में उमस के कारण अब तक कांवरियों की भीड़ देखने निकला नहीं था। मौसम अच्छा होने के कारण उस दिन मैं बटोही (अपनी साइकिल) के साथ निकल लिया।

घर से निकलते ही 600 मीटर पर नेशनल हाइवे है। NH19 – वाराणसी को जाता हुआ। बांई ओर की आधी सड़क कांवरियों के लिये रिजर्व है। उसपर साइकिल सवार भी चले जाते हैं। मैं भी चला – कांवरियों की दिशा के उलट। साथ में नोकिया का पुराना फ़ीचर फोन, जिससे साइकिल चलाते हुये भी आसानी से फोटो क्लिक किया जा सकता है। साइकिल पर चलते में अच्छे चित्र तो नहीं आते, पर जो देखा, वह दर्ज हो जाता है 99% मामलों में।

26 जुलाई 2017 की फेसबुक नोट्स पर इसे पहले पहल पोस्ट किया था। जो अब फेसबुक की बदली पॉलिसी के कारण वहां उपलब्ध नहीं है। पोस्ट अब कुछ परिवर्तित/परिवर्धित कर दी है। मेरे लैपटॉप की गैलरी में उपलब्ध सभी चित्रों का उपयोग किया है।

सावन में तीसरा सप्ताह था। कांवरियों की संख्या ठीकठाक दिखी। मुझे देख कई चलते चलते कह रहे थे – बोल बम। उत्तर में मैं हाथ हिला रहा था। एक आध बार कह भी दे रहा था – बोल बम! ‘बोल बम’ का उत्साह संक्रामक होता है। कुछ कुछ मुझमें भी हो रहा था।

अनेक प्रकार के ‘बम’ थे शंकर जी के। कांवरिये मूल भावना – प्रयाग (या अन्य स्थान) से सावन में गंगाजल ले कर बाबा विश्वनाथ के लिंग पर चढ़ाने की आस्था के अतिरिक्त हर मनुष्य अपनी अपनी विविधता लिये था।

कुछ के चित्र ले पाया। वे प्रस्तुत हैं।

बन्दर बम – यह काले मुंह वाला बन्दर भी कांवरियों में था। उसके साथ चलते नौजवान ने बताया कि जब बहुत छोटा था, तब से पाल रखा है इसे।

मुझे बताया कि यह बंदर बम पहले भी कांवर यात्रा में शरीक हो चुका है। लोगों के बीच काफी अनुशासित था। फिर भी, मुझे उसके समीप जाने में भय जरूर लगा! … बंदर मोबाइल देख कर जाने कैसा व्यवहार करे?! वह लोगों के बीच बैठा था और उसके स्वामी के अलावा और लोग भी कुछ न कुछ दे रहे थे।

महिला बम। यह अकेले चल रही थी। कांवरियों में लगभग 0.2% महिलायें हैं। तीन किलोमीटर में मुझे तीन दिखीं।

इस साल महिलायें ज्यादा थीं, पहले की अपेक्षा। और यह अकेली तेज चलती महिला कांवरिया तो ज्यादा ही आत्मविश्वास से भरी लग रही थी।

झांकी बम – यह झांकी नुमा कांवर अपने तरह की अनूठी थी।

झांकी बम लिये और भी कांवरिये थे। और भी बेहतर/बड़ी झांकी नुमा कांवर लिये। इस साल यह नया फैशन था, जो दिखा। झांकी सिर पर ले कर चलने में अतिरिक्त वजन तो होता है, पर उससे अन्य लोग आकर्षित होते हैं। आस्था भी कुछ परसेण्ट ज्यादा दिखती/लगती हो। कुल मिला कर मुखे लगा कि भविष्य में झांकी -बम ट्रेण्डी हो जायेंगे और झांकी बनाने वालों का कारोबार चमकेगा।

सड़क बम – सावन भर अन्यथा बहुत व्यस्त रहने वाला यह हाईवे इस समय कांवरियों की प्रॉपर्टी है। आराम से बैठे हैं उसपर। बीचोंबीच। एक जगह मैने कांवरियों को सड़क पर व्यायाम करते और अपना गमछा सुखाते भी पाया।

हाईवे का आधा हिस्सा उनके हवाले होने के कारण कांवरियों में महीने भर के लिये स्वामित्व की अनुभूति अवश्य होती है। वे सड़क के बीचो बीच बैठ कर यही दर्शा रहे थे!

तेज बम – उनका समूह सवेरे तेजी से चल रहा था। वे डाक-बम (दौड़ कर अनवरत चलने वाले) तो नहीं थे; पर सवेरे सवेरे काफ़ी दूरी दाब दे रहे थे।

हर कांवरिया अपने चलने में दूरी, समय और आगे बैठने, विश्राम करने या नहाने धोने का मानसिक गुणा-गणित बिठाता चलता है। उसी क्रम में ये कांवरिये सवेरे मौसम का लाभ ले कर ज्यादा से ज्यादा दूरी तय करना चाहते थे। या, इनको बाबा विश्वनाथ ज्यादा ही अपनी ओर खींच रहे थे; कह नहीं सकते।

योगी बम – यह बन्दा डीजे के शोर पर नाच रहा था। मैने फोटो लेने का उपक्रम किया तो वह अपना चेहरा आगे करने लगा। मैने कहा, तुम्हारे मुंह का नहीं, पीठ का फोटो लेना है। योगी-बम का!

योगी की नयी नयी सरकार बनी और वे किसी भी ‘स्टार’ से कम नहीं हिंदू नौजवानों में। योगी का सितारा उसके बाद और भी चमका है और मोदी के बाद वे सबसे अनूठे वोट कैचर बने हैं भाजपा के लिये। यह टी-शर्ट उसी का आभास दे रहा था।

बालक बम – मैने उससे उम्र पूछी तो साथ चलने वाले ने बताया दस साल।

दस साल का बालक। थोड़ा कष्ट में लगता था। पर यात्रा पूरी करने के बाद जीवन पर्यंत इसे याद रखेगा – अपनी पहली कांवर यात्रा को। 🙂

समूह बम – इस समूह में किशोरी भी थी, बालक भी।

मैंने करीब आधा घण्टा व्यतीत किया सड़क पर। कुछ और नये प्रकार का बम नहीं दिखा तो घर वापस हो लिया।