बखरी वाले लोग

यह गांव अगर एक ‘औसत’ गांव भर ही हो कर रह गया और इसके ढेर सारे लोग बिना कुछ किये या सिर्फ ट्रक ड्राइवरी करते रह गये तो वह इस कारण से कि वे ‘बखरी’ के खासमखास होने के परावर्तित आभामण्डल में इतराते रहे।

रवींद्रनाथ जी मुझे बताते हैं कि विक्रमपुर गांव छोटा सा गांव है। मुख्यत: चार (हिस्से के) लोगों का गांव। बखरी (अहाता), इमली के बड़े पेड़ के पास के घर – इमलिहा, पोखर के इर्दगिर्द वाले – पोखरिहा और अपने मिट्टी के घर पर चूने की छींट लगा कर सौंदर्यीकरण करने वाले – चुनहा। यही चार समूह थे – बखरी, इमलिहा, पोखरिहा और चुनहा। तीन अन्य के बारे में फिर कभी लिखूंगा। यह पोस्ट बखरी वालों पर है।

बखरी या अहाता कहा जाता था/है पण्डित देवेंद्रनाथ दुबे जी के चार बीघे की चारदीवारी वाले अहाता के घर को। देवेंद्र भाई के बाबा थे पण्डित तेजबहादुर दुबे। उनका इलाके में बहुत दबदबा था। उनके समय में ही यह घर बना था। घर की चारदीवारी शायद उनके बाद बनी।

आज बखरी में देवेंद्र भाई रहते हैं। वे, उनके तीन भाई और उनके परिवार दुमंजिले मकान और चार बीघे के अहाते में रहते हैं। मैं रेलवे लाइन के उस पार अपने मकान से अपनी जरूरत का एक लीटर दूध लेने उनके घर जाता हूं। इस प्रकार दिन में एक बार उनके यहां जाना हो ही जाता है।

Devendranath Dubey
देवेंद्रनाथ दुबे, अहाता में सवेरे की सैर करते हुये।

आज शायद देवेंद्र भाई को उठने में देर हो गयी थी। वे अपनी सवेरे की सैर, जो वे अपने अहाते के परिसर में ही करते हैं, करते दिखे। बहत्तर वर्ष की उम्र में भी वे पूरी तरह चुस्त दुरुस्त हैं। वे अपने शरीर सौष्ठव, अपने पर्सोना के बारे में बहुत सजग हैं – बहुत कुछ हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी तरह। बातचीत करने में भी वे बहुत प्रभावशाली हैं।

वे जो भी पढ़ते-सुनते हैं; उसे स्मरण रखने और उसका हाजिरजवाबी में प्रयोग करने में सिद्धहस्तता उनके पास ईश्वरप्रदत्त है। बोलने की शैली जरूर उनकी खुद की मेहनत का परिणाम है; वर्ना, जैसा मेरी पत्नीजी बताती हैं, अपनी किशोरावस्था में देवेंद्र भाई थोड़ा हकलाया करते थे। इतिहास में ऐसे कई प्रभावशाली वक्ता हुये हैं जो बचपन में stammering किया करते थे। शायद देवेंद्र भाई भी वैसे ही हैं।

गांव में गिने चुने लोग हैं जिन से पठन पाठन और पुस्तकों की बात की जा सकती है – रामायण, भागवत से इतर साहित्य की। और उनमें से एक हैं देवेंद्र भाई। या यूं कहा जाये कि इस प्रकार के वे अकेले हैं।

सत्येंद्र (मन्ना) दुबे

देवेंद्र दुबे जी के सबसे छोटे भाई हैं मन्ना (सत्येंद्र दुबे)। खेती किसानी मन्ना के जिम्मे है। हाजिरजवाबी और हास्य मन्ना में भी प्रचुर है। उनके आगे चार भाई इस दुनियाँ में आये और अपने अपने तरीके से सफल हुये; अन्यथा मन्ना अगर इकलौते होते तो भी शायद इतने ही या इससे कहींं ज्यादा प्रभावशाली होते। शायद।

गांव में एक बखरी थी/है। पर गांव का सबर्बिया बनना; गांव के एक नये प्रकार का बखरीकरण को होते देखना रोचक होगा! … बस लोग जितनी जल्दी हो, ट्रक ड्राइवरी की मीडियॉकर मनोवृत्ति से निजात पायें और कर्मठ बनें। बस! … और वे बन भी रहे हैं!

खैर, जब मैं बखरी वाले लोगों के बारे में बहुत hagiographical लिख रहा हूं; तो यह न समझा जाये कि मैं अपने ससुराल के बारे में अच्छा-अच्छा ही कहना चाहता हूं। मैंने यह भी सुना है (और ऐसा लगता भी है); कि यह गांव अगर एक ‘औसत’ गांव भर ही हो कर रह गया और इसके ढेर सारे लोग यूंही बिना कुछ किये या सिर्फ ट्रक ड्राइवरी करते रह गये; तो इसका एक कारण यह भी है कि वे ‘बखरी’ के खासमखास होने के परावर्तित आभामण्डल में इतराते रहे। अब सम्भावनायें बन रही हैं कि विक्रमपुर एक गांव से उठ कर सबर्बिया बनने जा रहा है; लोग अपनी अपनी क्षमता के अनुसार कर्म कर रहे हैं। आर्थिक आधार पर आगे के दशक अलग प्रकार के होंगे। अगर जीडीपी 8-10 परसेण्ट सालाना बढ़ी और यह गांव हाईवे के किनारे होने का लाभ ले पाया तो यहां एक नहीं यहां आधा दर्जन बखरियाँ खड़ी होने की सम्भावनायें बनती हैं। एक दो तो इसी बखरी के ऑफशूट से बनेंगी। इसी घर की अगली पीढ़ियां प्रतिभासम्पन्न हैं और उनके गांव में रीवर्स-माइग्रेट होने की सम्भावनायें भी बनती हैं। आखिर यह गांव बनारस के छोर से मात्र पच्चीस मिनट की दूरी पर है।

गांव में, रेल लाइन उस पार मेरा अपना घर। मैं बभनौटी से दूर दलित, पासी, केवट लोगों के बीच रहता हूं।

मेरे स्वसुर जी; स्वर्गीय पण्डित शिवानंद दुबे (देवेन्द्र भाई और मन्ना के चाचा) कुछ अर्थों में भविष्यदृष्टा थे। मेरी पत्नीजी बताती हैं कि वे पंचायती राज के बदलते मिजाज, गांव के बनारस के समीप आते जाने और गांव के बदलते स्वरूप के बारे में बहुत बार बहुत कहते थे और उसे मेरी पत्नी जी आश्चर्य से सुना करती थीं। उन्हीं के अंदाज में भविष्य के गांव की कल्पना करना रुचता है मुझे। और, इस इलाके के बदलते स्वरूप के प्रति मैं बहुत आशान्वित हूं।

शायद वह एक कारण है कि इस जगह को छोड़ कर कहीं और जानेवाला नहीं। 😊

गांव में एक बखरी थी/है। पर गांव का सबर्बिया (sub-urban रूपांतरण) बनना; गांव के एक नये प्रकार का बखरीकरण को होते देखना रोचक होगा! … बस लोग जितनी जल्दी हो, ट्रक ड्राइवरी की मीडियॉकर मनोवृत्ति से निजात पायें और कर्मठ बनें। बस! … और वे बन भी रहे हैं!


Author: Gyan Dutt Pandey

Exploring village life. Past - managed train operations of IRlys in various senior posts. Spent idle time at River Ganges. Now reverse migrated to a village Vikrampur (Katka), Bhadohi, UP. Blog: https://gyandutt.com/ Facebook, Instagram and Twitter IDs: gyandutt Facebook Page: gyanfb

आपकी टिप्पणी के लिये खांचा:

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s