आज आंधी आई

नित्य के काम होल्ड पर चले गये थे। आखिर आंधी जो आ गयी थी! चैत्र मास में आंधी-पानी और बिजली का कौंधना देखा।


रात में आंधी आई। सुग्गी ने अपना सरसों और अरहर का खलिहान सफरा लिया है। गेंंहूंं अभी खेत में खड़ा है। सिर्फ चना, थोड़ा सा, काट कर मेरे परिसर में रखा है। उसी की फिक्र थी उसे।

पानी गिरा। थोड़ा चना भीगा पर जल्दी से उसके मेरे पोर्टिको में रख दिया। बच गया।

खेतों में गेंहू की कटाई चल रही है। जहां काट कर खेत में लेहना (कटे पौधे सलीके से लिटाना) बना दिया है और उनका बांध कर बोझ नहीं बना है; वहां रात में आंधी में उड़ गया होगा। एक का लेहना उड़ कर दूसरे के खेत में गया होगा तो बड़ी किचाइन (किचकिच) होगी वापस लेने को। 😆

रात में ही पास के पसियान और केवटान के बच्चे दौड़ने लगे टिकोरा (कच्चा आम) बीनने के लिये। सवेरे चाय पीते समय पत्नी जी बचे टिकोरे में से कुछ पा गयीं। उनसे पुदीना के साथ चटनी बनेगी।

सवेरे की चाय के समय बीने टिकोरे

चाय हम पोर्टिको में बैठ प्रकृति का अवलोकन करते पीते हैं। आज हम खुले और झाल में बंधे चने के खलिहान के बगल में बैठे। अजीब था चने के सूखे पौधों के बगल में बैठ कर चाय पीना।

पोर्टिको में चने के खलिहान की बगल में चाय का अनुष्ठान रहा आज

आजकल तापक्रम चालीस तक चला जा रहा है। पर सवेरे बादल थे। हवा भी थी और कभी कभी पानी भी बरस जा रहा था। पत्नीजी को सर्दी लग रही थी। दुपट्टे का प्रयोग बतौर शॉल किया उन्होने। चाय का अनुष्ठान पूरा हुआ, पर मौसम ऐसा था कि एक बार और चाय बनी और वहीं बैठ हमने पुन: पी।

दुपट्टा शॉल की तरह ओढ़े रीता पाण्डेय

नित्य के काम होल्ड पर चले गये थे। आखिर आंधी जो आ गयी थी! चैत्र मास में आंधी-पानी और बिजली का कौंधना देखा।

और फिर एक बार पानी फिर बरसने लगा है!


सरसों के खलिहान की लिपाई

फसल इस साल बढ़िया है। खेतों में दिखता है कि सरसों, अरहर, गेंहूं – सब अच्छा ही हुआ है। किसान और अधियरा, दोनो ही प्रसन्न होने चाहियें। महिला, जो खलिहान लीप रही थी, उसके कथन में भी सामान्य प्रसन्नता ही थी, मायूसी नहीं।


सवेरे इनारा से पानी खींचते देखा एक आदमी को। यह कुंआ लगभग परित्यक्त है। किसी को पानी निकालते देखा नहीं था। नयी बात थी। पूछा – क्या पानी पीने लायक है कुंये का?

कुंये से पानी खींचता आदमी

“पीने के लिये नहीं, उस खलिहान लीपने के लिये पानी चाहिये, वहीं ले कर जा रहा हूं।” – उस व्यक्ति ने महुआरी की ओर इशारा किया। वहां एक महिला पेड़ के नीचे की जमीन बुहार रही थी। मैं वहां से चला गया। वापस लगभग दस मिनट बाद लौटा तो पाया कि महुये के पेड़ के नीचे जमीन बुहारी जा चुकी थी। गोबर से लीपने का काम चल रहा था। साइकिल रोक मैं चित्र लेने गया तो महिला, जो जगह लीप रही थी, खड़ी हो गयी और पुरुष एक झाड़ू से पानी और गोबर जमीन पर फैलाने लगा।

पुरुष एक झाड़ू से पानी और गोबर जमीन पर फैलाने लगा।

महिला ने बताया कि सरसों की पिटाई करने के लिये वे जमीन तैयार कर रहे हैं। सरसों बगल के उमेश पण्डित के खेत की है। वे उसे अधिया पर जोतते हैं। सरसों की कटाई हो चुकी है। सूख भी गयी है। अब पीट कर उससे सरसों के दाने निकालने का समय है।

Mustard field
खेत में सरसों के गठ्ठर बनाने में लगा अधियरा दम्पति

यह खलिहान लिपाई के दो दिन बाद भी वहां सरसों के ढ़ेर नहीं नजर आये। तब मैंने पास के खेत की ओर नजर घुमाई तो उस अधियरा दम्पति को सूखी सरसों की फसल के गठ्ठर बनाने के उपक्रम में पाया। वे दोनों मिल कर पुआल को उमेठ कर रस्सी बना रहे थे। उसी रस्सी से गठ्ठर बांधे जाने थे। आदमी के पास उसकी चुनौटी – जिसमें चूना और सुरती (कच्चा तम्बाकू) होता है – रखी थी। एक गरम कपड़ा भी था। शायद सवेरे सवेरे निकलने पर थोड़ी सर्दी से बचाव के लिये पहनता हो। पास में प्लास्टिक का मग भी था, जिसमें वे पानी लाये होंगे पुआल को गीला कर रस्सी बनाने के लिये नरम करने को।

मैंने यूंही बात करने के लिये पूछा – गठ्ठर कितने वजन का होता है?

“नाहीं बताई सकित जीजा। ओतना होथअ जेतना उठावा जाई सकई (नहीं बता सकता जीजा। उतना होता है, जितना उठाया जा सके)।” – उसने बताया। पता चला कि उसका नाम फुलौरी है। फुलौरी पाल।

इस गांव का मैं सार्वजनिक जीजा या फूफा हूं। आखिर गांव मेरी पत्नीजी का है! 😆

फसल इस साल बढ़िया है। खेतों में दिखता है कि सरसों, अरहर, गेंहूं – सब अच्छा ही हुआ है। किसान और अधियरा, दोनो ही प्रसन्न होने चाहियें। महिला, जो खलिहान लीप रही थी और मुझसे बात कर रही थी, उसके कथन में भी सामान्य प्रसन्नता ही थी, मायूसी नहीं।

धान, गेहूं और सरसों मुख्य फसलें हैं इस इलाके की। जोत छोटी है और जनसंख्या ज्यादा। बेचने के लिये बहुत सरप्लस नहीं होता है। अधियरा तो अपने उपभोग भर का ही पाता होगा। जमीन का मालिक शायद बेच पाता हो। धान और गेंहू तो नहीं, अरहर और सरसों मुझे खरीद कर ही लेने होते हैं। सरसों के खलिहानों से कोई बेचने वाला मिले और सरसों मिल सके तो मैं पचास साठ किलो लेना चाहूंगा। उससे तेल पेराई से साल भर की जरूरत पूरी हो सकेगी। वर्ना तो सलोनी ब्राण्ड कच्ची घानी के तेल के पाउच/बोतल ही खरीदे जाते हैं।

रस्सी बटता अधियरा दम्पति

सरसों के खलिहान को ध्यान से देखने का मेरा मकसद वही है। और गांव में रहने पर यह परिवर्तन धीरे धीरे आया है। शायद कुछ समय में सरसों बेचने वाले किसान को भी तलाश लूं! 🙂