आम, आम नहीं, बहुत खास है!



आज पंकज जी अपनी अतिथि पोस्ट में आम के विषय में अनजाने तथ्यों पर हमारा ध्यान आकर्षित कर रहे हैं। आप आम के खास औषधीय गुणों के विषय में इस लेख के माध्यम से जान पायेंगे।
आप पढ़ें श्री पंकज अवधिया जी की बुधवासरीय अतिथि पोस्ट। उनकी पहले की पोस्टें आप “पंकज अवधिया” लेबल/वर्ग पर क्लिक कर देख सकते हैं।
कृपया पोस्ट पढ़ें:


अब आम बौराने लगे हैं। आम के वृक्ष बचपन ही से हम सब के जीवन से जुडे रहे हैं। बचपन मे एक पुस्तक मे पढ़ा था कि आम की बौर के उचित उपयोग से एक अनोखा कार्य किया जा सकता है। पुस्तक मे लिखा था कि आम की बौर को लगातार हथेली मे रगडने के बाद जब आप किसी व्यक्ति के दर्द वाले भाग पर इसे रखेंगे तो उसे सुकून प्राप्त होगा। पुराने जमाने की कहानियों मे यह वर्णन मिलता है कि साधु ने जैसे ही दर्द वाले भाग को छुआ, दर्द गायब हो गया। यह दरअसल आम का बौर को रगडने के कारण हुआ होगा। बाद मे जब मैने वानस्पतिक सर्वेक्षण आरम्भ किये तो पारम्परिक चिकित्सकों ने यह बात दोहरायी। बौर को रोज सुबह आधे घंटे तक हथेली पर मलना होता है। एक सप्ताह मे ही ये गुण आ जाते हैं। अधिक समय तक ऐसा करने से अपने ही शरीर को लाभ होने लगता है। इस प्रयोग के दौरान मिट्टी ही से हाथ धोने की सलाह दी जाती है। शहरों मे रह कर हाथ को तेज रसायनो से बचा पाना सम्भव नही लगता है। आज भी सोंढूर-पैरी-महानदी पारम्परिक चिकित्सक इसे अपनाते हैं और रोगियों को आराम पहुँचाते हैं।

चिकित्सा से सम्बन्धित प्राचीन ग्रंथ बताते है कि आम की सूखी पत्तियो को जलाने से पैदा हुआ धुँआ कई रोगो मे लाभ पहुँचाता है। कुछ वर्षो पहले जब मैने एक उद्यमी के लिये कई तरह की हर्बल सिगरेट तैयार की तो बवासिर (पाइल्स) के लिये उपयोगी सिगरेट मे अन्य वनस्पतियो के साथ आम की पत्तियो को भी मिलाया। यह हर्बल सिगरेट बवासिर मे राहत पहुँचाती है। अब उद्यमी इसका वैज्ञानिक परीक्षण कराने की तैयारी कर रहे हैं ताकि इसे उत्पाद के रूप मे बाजार में ला सकें। मैने कोशिश की कि शायद इसे पीकर सामान्य सिगरेट पीने वाले भी यह बुरी आदत छोड पायें पर सफल नही हुआ।

आम की छाँव तेज गरमी मे राहत पहुँचाती है। स्त्री रोगों की चिकित्सा मे महारत रखने वाले पारम्परिक चिकित्सक सुबह के समय इसकी छाँव मे बैठने की सलाह रोगियों को देते हैं। उनके अनुसार इसे रोगियों को अपनी दिनचर्या मे शामिल कर लेना चाहिये।

यदि आपने आम के पेड़ को ध्यान से देखा होगा तो आपने तनों पर गाँठ भी देखी होगी। पारम्परिक चिकित्सक इन गाँठो के प्रयोग से तेल बनाते हैं। यह तेल गठिया के रोगियों के लिये बहुत उपयोगी होता है। पारम्परिक चिकित्सकों से यह तेल लेकर मैने अपने मित्रो और परिवारजनों को दिया है।

आम के फल के विषय मे तो अक्सर लिखा जाता है। इसलिये मैने उन भागों के विषय मे इस लेख मे लिखने की कोशिश की जिनके उपयोगो के विषय मे आप कम जानते है। आम के जिन वृक्षो के विषय मे प्राचीन ग्रंथो मे लिखा है वे वृक्ष तो तेजी से कम होते जा रहे हैं। अब अधिक उत्पादन देने वाले बडे और स्वादिष्ट फलो से लदे वृक्ष सभी अपने आस-पास देखना चाहते है। क्या इन नयी जातियो मे भी वे ही औषधीय गुण हैं? बहुत से विषय विशेषज्ञ कह सकते है कि हाँ, बिल्कुल हैं पर वे अपने पक्ष मे वैज्ञानिक दस्तावेज नहीं प्रस्तुत कर पायेंगे क्योकि आम के औषधीय गुणों पर केन्द्रित विशेषकर इसके फल के अलावा अन्य भागों पर कम शोध हुये हैं। यदि यही प्रश्न पारम्परिक चिकित्सकों से पूछें तो वे साफ कहेंगे कि दवा के लिये पुराने देशी वृक्ष ही उपयोगी हैं। इस नजरिये से आज यह जरुरी हो गया है कि पुराने वृक्षों के अलावा पुराने बागीचों को भी बचाना जरुरी है। साथ ही आम के औषधीय गुणों के विषय मे जानकारी रखने वाले पारम्परिक और आधुनिक विशेषज्ञ मिलकर औषधीय गुणो मे धनी किस्मे विकसित करने का प्रयास करें।

प्रस्तुत चित्र हैदराबाद के खास सफेद आम के पेड का हैं। कहते है कि वहाँ के निजाम इसे पहरे मे रखते थे ताकि कोई फल न चुरा ले। आम पूरी तरह से सफेद होता है अन्दर भी बाहर भी पर स्वाद लाजवाब होता है। दिसम्बर 2007 मे डेक्कन डेव्हलपमेंट सोसायटी के आमंत्रण पर मै पास्तापुर गया था। यह पेड उन्ही के बागीचे मे लगा है। यह तस्वीर आप ज्ञान जी के ब्लाग पर ही देख पायेंगे।

आम पर लिखे मेरे शोध आलेखों की सूची का लिंक

पंकज अवधिया

© इस लेख का सर्वाधिकार श्री पंकज अवधिया का है।


कल मैं इलाहाबाद रेलवे स्टेशन पर श्रीमती और श्री समीर लाल जी से मिला। लगभग २५ मिनट – उनकी ट्रेन चलने तक। हम लोग प्रत्यक्ष मिल कर अपने लिंक और् मजबूत बना सके। इण्टरनेट के बॉण्ड आमने सामने गले मिल कर बना लिये समीर जी से। उनकी पत्नी जी भी अत्यन्त प्रभावी व्यक्तित्व हैं। दोनो से मिलने पर बहुत प्रसन्नता हुयी। मेरा फोटो तो बिना फ्लैश के मोबाइल कैमरे का है। ट्रेन के अन्दर कम रोशनी में। अच्छा फोटो तो श्रीमती लाल ने खींचा है जो समीर जी दिखा सकते हैं।

——

कल अरविंद मिश्र जी ने यह आशंका व्यक्त की कि मेरा ब्लॉगिंग कम करना विभागीय अन्तर्विरोध का परिणाम न हो। वास्तव में न यह विभागीय अन्तर्विरोध है, न ब्लॉगीय। कल समीर जी से स्टेशन पर मिल कर आने के बाद जब मेरा पद परिवर्तन हुआ, तबसे मैं यह सोचने में लगा हूं कि अपना समय प्रबंधन कैसे किया जाये। अभी स्पष्टता नहीं है। ब्लॉग से आमदनी का टार्गेट तो मेरा बहुत मॉडेस्ट है – अगले ८-१० साल में लगभग सौ डॉलर आजकी रेट से महीने में कमा सकना, जिससे कि ब्लॉगिन्ग अपने में सेल्फ सस्टेनिंग हो सके। लेकिन पैसा कमाना प्रमुखता कतई नहीं रखता। कतई नहीं। हां, अरविन्द मिश्र जी की उलाहना भरी टिप्पणी बहुत अपनी लगी। वास्तव में सभी टिप्पणियां अपनत्व से भरी लगीं। क्या जादू हो गया है यह सम्बन्धों के रसायन में!

हां इस सप्ताह न लिख पाऊंगा, टिप्पणयां भी शायद ही दे पाऊं। नियमित ब्लॉग पढ़ने का यत्न अवश्य करूंगा। अगली पोस्ट सोमवार को।


दीन दयाल बिरद सम्भारी – पुन: दृष्टि



एक साल गुजर गया। मैने पहली पोस्ट लिखी थी इस ब्लॉग पर २३ फरवरी’२००७ को। एक अनगढ़ पोस्ट – दीनदयाल बिरद सम्भारी। आज उसे देखता हूं तो लगता है बहुत पानी बह गया है गंगा में। लिखने का तरीका, फॉण्ट का प्रयोग, प्रेजेण्टेन और वैचारिक परिपक्वता – सब में अन्तर है। भाषा में प्रवाह पहले से बेहतर है। हिन्दी में टाइप करने की क्षमता में विकास ने पोस्ट में विस्तार और टिप्पणियां करने में सहूलियत प्रदान की है। फलस्वरूप मुझे भी पाठक मिले हैं।

टिप्पणियों के लिये कुछ हद तक अहो रूपम – अहो ध्वनि का भाव रखना होता है। उसमें हतोत्साहित होने की बजाय आत्मविश्वास बढ़ता है। पहले पहल मैं इसे काफी हेय भावना मानता था। पर अब लगता है कि दूसरों में प्रशंसा का कोई मुद्दा ढूंढना और उसे आगे रख बात करना बहुत महत्वपूर्ण है न केवल ब्लॉगिन्ग में वरन सामान्य जीवन में भी। यह वैसे ही है कि किसी फिल्म की एक्स्ट्रा की प्रशंसा कर उसे फिल्म की नायिका बनने में मदद करना। वही मेरे साथ हुआ। कई लोगों ने मुझे प्रोत्साहन दिया। मेरे अक्खड़पन ने कुछ लोगों में मेरे प्रति अरुचि भी पैदा की। पर बैलेन्स शायद मेरे फायदे में रहा। मैं इस सूत्र का महत्व उत्तरोत्तर अधिकाधिक समझता गया हूं। यह सूत्र सरकारी अफसरी की रुक्षता की सीमायें पार कर गया है।

मैं पहले पहल अपने को एमेच्योर और अतिथि ब्लॉगर मानता था। उस सोच में कुछ ही अन्तर आया है। अभी भी लगता है कि कभी भी दूसरे काम का दबाव मुझे विरत कर सकता है। हां, अगर मुझे ब्लॉगिन्ग से कुछ आय होने लगे और भविष्य में यह सेल्फ सस्टेनिंग एक्टीविटी बन सके तो शायद नजरिया बदल सके। फिलहाल वह मॉडल बनता नजर नहीं आता। लेकिन इतना अवश्य लगता है कि ब्लॉग पर चाहे सप्ताह में एक पोस्ट पब्लिश हो; वह पूर्णत: समाप्त शायद ही हो।

मेरी विभिन्न वर्गों और विचार धाराओं के प्रति असहिष्णुता में कमी आयी है। इसी प्रकार आलोचना को कम से कम हवा दे कर झेलने का गुर भी सीखने का अभ्यास मैने किया है। मैने अपनी सोच में पानी नहीं मिलाया। पर दूसरों की सोच को फ्रॉड और खोखला मानने का दम्भ उत्तरोत्तर कम होता गया है। बहुत नये मित्र बने हैं जो मेरी भाषागत अक्षमताओं के बावजूद मेरे लेखन को प्रोत्साहित करते रहे हैं। उनका स्नेह तो अमूल्य निधि है।

केवल नित्य २५-५० हिन्दी ब्लॉग पठन मुझे अभी पर्याप्त विचार नहीं दे पा रहा है कि मैं उसके बल पर सप्ताह में ४-५ पोस्टें लिख-पब्लिश कर सकूं। मुझे आस-पास का अवलोकन; ब्लॉग से इतर अध्ययन और विभिन्न विषयों पर स्वतन्त्र रूप से अपने विचारों का परिमार्जन करना पड़ रहा है। उससे शायद मुक्ति नहीं है। पर मैं यह अवश्य चाहूंगा कि हिन्दी ब्लॉगजगत में नये अनछुये विषयों पर अथॉरिटेटिव तरीके से लिखने वाले बढ़ें। वह हो भी रहा है – पर शायद और तेजी से होना चाहिये।

कुल मिला कर बहुत सन्तुष्ट करने वाला रहा यह हिन्दी ब्लॉगिंग का वर्ष।


मेरी पहली पोस्ट – दीनदयाल बिरद सम्भारी
आदमी कभी न कभी इस दुनिया के पचडे में फंस कर अपनी नींद और चैन खोता है. फिर अपने अखबार उसकी मदद को आते हैं. रोज छपने वाली – ‘गला रेत कर/स्ल्फास की मदद से/फांसी लगा कर मौतों की खबरें’ उसे प्रेरणा देती हैं. वह जीवन को खतम कर आवसाद से बचने का शॉर्ट कट बुनने लगता है.
ऐसे में मंत्र काम कर सकते हैं.
मंत्र जाप का अलग विज्ञान है. मैं विज्ञान शब्द का प्रयोग एक देसी बात को वजन देने के लिये नहीं कर रहा हूं. मंत्र आटो-सजेशन का काम करते हैं. जाप किसी बात या आइडिया को अंतस्थ करने में सहायक है.
अर्जुन विषादयोग का समाधान ‘मामेकं शरणमं व्रज:’ में है. अर्जुन के सामने कृष्ण उपस्थित थे. कृष्ण उसके आटो-सजेशन/रिपीटीशन को प्रोपेल कर रहे थे. हमारे पास वह सुविधा नहीं है. हमारे पास मंत्र जाप की सुविधा है. और मंत्र कोई संस्कृत का टंग-ट्विस्टर हो, यह कतई जरूरी नहीं. तुलसी बाबा का निम्न पद बहुत अच्छा काम कर सकता है:

दीन दयाल बिरद संभारी. हरहु नाथ मम संकट भारी.

बस हम निश्चय करें, और प्रारंम्भ कर दें.
(२३ फरवरी’२००७)



और चलते चलते मुझे यह लिखना ही पड़ा:

मुझे जिस का अन्देशा था, वह हो गया है। मेरे विभाग ने मेरा काम बदलने का निर्णय किया है। भारतीय रेलवे में उत्तर मध्य रेलवे को “वर्क हॉर्स” अर्थात काम करने वाले घोड़े की संज्ञा दी जाती है। घोड़े का काम तेज गति से वहन करना है। यह उत्तर-मध्य रेलवे, पूर्व-पश्चिम और उत्तर-दक्षिण का बहुत सा माल यातायात वहन करती है।

अबतक मेरा कार्य उत्तर-मध्य रेलवे के सवारी यातायात का प्रबन्धन था। अब यह बदल कर माल यातायात (freight traffic) का प्रबन्धन हो रहा है। माल यातायात में सवारी यातायात से कहीं अधिक प्रबन्धन के परिवर्तनीय अंग (variables) होते हैं और उनपर कस कर निगाह न रखी जाये तो अव्यवस्था होने की सम्भावनायें ज्यादा होती है। कुल मिला कर यह ज्यादा इंवाल्वमेण्ट का काम है (यह मेरा नजरिया है; कई लोग इससे सहमत नहीं भी हो सकते!)।

ज्यादा इंवाल्वमेण्ट का अर्थ उससे इतर कामों में कम समय दे पाना भी होता है। अत: ब्लॉगिंग में कटौती अनिवार्य है। मेरी पत्नी का कथन है कि ब्लॉगिंग पूर्णत: बन्द न की जाये। अत: मैं “मानसिक हलचल” पर ताला नहीं लगा रहा। पर अपनी आवृति अवश्य कम कर रहा हूं। ब्लॉग लेखन अब सप्ताह में दो या तीन दिन होगा। पोस्ट सोम, वृहस्पति (और सम्भव हुआ तो शनिवार) को पब्लिश करूंगा। अगर उसमें लगा कि पोस्ट के स्तर से समझौता हो रहा है तो फिर यह निर्णय बदल कर आवृति और कम करूंगा। ब्लॉग लेखन में रेगुलॉरिटी बनाये रखूंगा, भले ही आवृति कम हो जाये।

मुझे आशा है कि श्री पंकज अवधिया अपनी अतिथि पोस्ट यथावत बुधवार को देते रहेंगे; भले ही मेरी ब्लॉग एक्टिविटी में कमी आये। कल तो उनकी पोस्ट है ही।
धन्यवाद।


कोलम्बस और कृष्ण



इन्द्रजी ने अपने ब्लॉग इन्द्राज दृष्टिकोण पर एक बहुत रोचक आख्यान कोलम्बस के सम्बन्ध में बताया है। सन १५०४ में चन्द्र ग्रहण ने कोलम्बस और उसके नाविकों की प्राण रक्षा की थी। वे जमैका के तट पर अटके थे। स्थानीय लोग बहुत विरोध कर रहे थे उनका। खाने की रसद समाप्त हो रही थी। और स्थानीय लोगों ने भोजन सामग्री देने से मना कर दिया था। कोलम्बस ने जर्मन गणितज्ञ द्वारा बनाया पंचांग देखा। उसने पाया कि २९ फरवरी १५०४ को पूर्ण चन्द्र ग्रहण लगेगा। फिर उसने स्थानीय लोगों के नेता को बुलाया और कहा कि वे भोजन सामग्री दे दें, अन्यथा वह उन्हें चन्द्रमा से वंचित कर देगा। वैसा ही हुआ। चंद्रग्रहण लगा। स्थानीय लोगों ने डर कर भोजन सामग्री देना मान लिया और बदले में कोलम्बस ने चन्द्रमा रिस्टोर कर दिया। वह वैसे भी रिस्टोर होना था!

इस रोचक घटना को पढ़ कर जब मैने अपनी पत्नी जी को सुनाया तो उन्होने पत्नी जी ने मुझे महाभारत और जयद्रथ वध प्रसंग की याद दिलाई। जयद्रथ ने शिवजी के दिये वरदान का दुरुपयोग शेष चार पाण्डवों को एक दिन तक युद्ध में रोकने के लिये किया था।1 उसका प्रयोग कर अभिमन्यु का वध चक्रव्युह से कर दिया गया – अनीति का सहारा ले कर। इस कारण अर्जुन का प्रण था कि वह सूर्यास्त के पहले जयद्रथ का वध कर देगा अन्यथा अपने प्राण तज देगा। युद्ध के १४हवें दिन प्रचण्ड शौर्य से अर्जुन ने आठ अक्षौहिणी कौरव सेना का संहार कर दिया, पर जयद्रथ छिप गया। सूर्यास्त का समय समीप था। कौरव सेना में आठ अक्षौहिणी संहार के बावजूद भी हर्ष था कि अब तो अर्जुन प्राण त्याग देगा।

ऐसे मौके पर कृष्ण चमत्कार करते हैं। सूर्यास्त के पहले वे सूर्य अस्त कर देते हैं। सिन्धुराज जयद्रथ बाहर आता है और कृष्ण के कहने पर (सूर्यास्त जानकर भी) अर्जुन एक तेज वाण से जयद्रथ का सिर काट डालता है। कटा सिर जाकर गिरता है उसके ध्यानमग्न पिता वृद्धक्षत्र की गोद में – चुपचाप।

पिता सांध्य पूजा कर उठता है और सिर जमीन पर गिर जाता है। पिता ने श्राप दिया है कि जयद्रथ का सिर जो भी जमीन पर गिरायेगा, उसके सिर के टुकड़े हो जायेंगे। … एक ही वाण से जयद्रथ और उसके पिता वृद्धक्षत्र का रामनाम सत्त!
(‍^^^ ऊपर बायें सचित्र महाभरत, गीता प्रेस में जयद्रथ और वृद्धक्षत्र का वध के चित्र)

इस घटना की दो वैज्ञानिक व्याख्यायें हैं:

  1. तेरहवें दिन अर्जुन के प्रण कर लेने के बाद वह तो निश्चिन्त हो कर सोया।2 उसने तो अपना जीवन कृष्ण के हवाले कर रखा था। आगे तो झेलना कृष्ण को था। वे कैसे अर्जुन की प्रतिज्ञा सच करायें! कृष्ण खगोलवेत्ताओं को रात में बुला कर सूर्य की चाल के बारे में पता करते हैं कि अगले दिन पूर्ण सूर्यग्रहण शाम को होने जा रहा है। इस आधार पर वे अपनी स्ट्रेटेजी बनाते हैं। कौरव अपनी स्ट्रेटेजी अथाह सेना आगे झोंक कर जयद्रथ को बचाने की बनाते हैं। – और कृष्ण की स्ट्रेटेजी कौन बीट कर सकता है?!
  2. दूसरी व्याख्या डा. पी. वी. वर्तक ने यहां की है। यह निम्न है –

    On the 14th day of the Mahabharat War, i.e., on 30th October a similar phenomenon took place. Due to the October heat enhanced with the heat of the fire-weapons liberally used in the War, the ground became so hot that the layers of air near it were rarefied while the layers at the top were denser. Therefore the sun above the horizon was reflected producing its image beneath. The Sun’s disc which was flattened into an ellipse by a general refraction was also joined to the brilliant streak of reflected image. The last tip of the Sun disappeared not below the true horizon, but some distance above it at the false horizon. Looking at it, Jayadratha came out and was killed. By that time, the Sun appeared on the true horizon. Naturally there was no refraction because the light rays came parallel to the ground. This re visualized the Sun at the true horizon. Then the sun actually set, but the refraction projected the image above the horizon. The sun was thus visible for a short time which then set again.

मैं इस व्याख्या का हिन्दी अनुवाद कर सकता था, पर वह मुझे वैज्ञानिक शब्दों के सही अनुवाद करने की जहमत के चलते कठिन लगा। फण्डा पृथ्वी के पास अक्तूबर महीने की उष्ण-विरल और वातावरण में कुछ ऊपर सघन हवा से सूर्य की किरणों का आवर्तन का है। सूर्य जब कुछ ऊपर होते हैं तो टेढ़ी होती किरणों के कारण उनका आभासी बिम्ब क्षितिज के नीचे बनता है। जब सूर्य और नीचे आते हैं तो किरणें केवल विरल हवा से गुजर कर आती हैं और सूर्य सामने दिखाई देते हैं। महाभारत के १४हवें दिन अर्थात ३० अक्तूबर को वही हुआ। कृष्ण जी ने उसका लाभ उठाया। आप कृपया अंग्रेजी से ही काम चला लें। धन्यवाद।


1. शिवजी से जयद्रथ ने सभी पाण्डवों को हराने का वर मांगा था। शिवजी ने कहा कि यह तो नहीं हो सकता। वे अर्जुन के अलावा शेष पाण्डवों को एक दिन तक युद्ध में रोक पाने का वरदान दे सकते हैं। वही जयद्रथ को मिला। और उसी वरदान के मिस-यूज ने अन्तत: जयद्रथ का सिर कलम कराया!

2. बाई द वे, निश्चिन्त हो कर सोने का यही सर्वोत्तम तरीका है। जो हम नहीं जानते! स्वप्न में ही कृष्ण ने अर्जुन को शिवजी के पास भेज कर पशुपत-अस्त्र का कैप्स्यूल रिफ्रेशर कोर्स करा दिया। उसी से अगले दिन जयद्रथ मारा गया।
‘सर्व धर्मान् परित्यज्य मामेकम् शरणम् व्रज:!’ यह बहुत पढ़ते हैं पर आत्मसात नहीं कर पाते। हममें और अर्जुन में यही अन्तर है। वह सब कृष्ण पर छोड़ कर टेन्शन लेस (tension less) है। हमें नींद की गोली लेनी होती है। हम टेन्शन से लैस हैं!


पारिवारिक कलह से कैसे बचें



हां मैं रहता हूं , वह निम्न मध्यमवर्गीय मुहल्ला है। सम्बन्ध , सम्बन्धों का दिखावा , पैसा , पैसे की चाह , आदर्श , चिर्कुटई , पतन और अधपतन की जबरदस्त राग दरबारी है। कुछ दिनों से एक परिवार की आंतरिक कलह के प्रत्यक्षदर्शी हो रहे हैं हम। बात लाग डांट से बढ़ कर सम्प्रेषण अवरोध के रास्ते होती हुई अंतत लाठी से सिर फोड़ने और अवसाद उत्तेजना में पूर्णत अतार्किक कदमों पर चलने तक आ गयी है। अब यह तो नहीं होगा कि संस्मरणात्मक विवरण दे कर किसी घर की बात ( भले ही छद्म नाम से ) नेट पर लायें पर बहुत समय इस सोच पर लगाया है कि यह सब से कैसे बचा जाये। उसे आपके साथ शेयर कर रहा हूं।

 

कुछ लोगों को यह लिखना प्रवचनात्मक आस्था चैनल लग सकता है। पर क्या किया जाये। ऐसी सोच में आस्था चैनल ही निकलेगा।

 

मेरे अनुसार निम्न कार्य किये जाने चाहियें सम्बन्धों के अधपतन से बचने के लिये:

   

  1. अपनी कम , मध्यम और लम्बे समय की पैसे की जरूरतों का यथार्थपरक आकलन हमें कर लेना चाहिये।  

    इस आकलन को समय समय पर पुनरावलोकन से अपडेट करते रहना चाहिये। इस आकलन के आधार पर पैसे की जरूरत और उसकी उपलब्धता का कैश फ्लो स्पष्ट समझ लेना चाहिये। अगर उपलब्धता में कमी नजर आये तो आय के साधन बढ़ाने तथा आवश्यकतायें कम करने की पुख्ता योजना बनानी और लागू करनी चाहिये। जीवन में सबसे अधिक तनाव पैसे के कुप्रबन्धन से उपजते हैं।

  2. मितव्ययिता (फ्रूगेलिटी – frugality) न केवल बात करने के लिये अच्छा कॉंसेप्ट है वरन उसका पालन थ्रू एण्ड थ्रू होना चाहिये। हमारी आवश्यकतायें जितनी कम होंगी , हमारे तनाव और हमारे खर्च उतने ही कम होंगे। इस विषय पर तो सतत लिखा जा सकता है। फ्रूगेलिटी का अर्थ चिर्कुटई नहीं है। किसी भी प्रकार का निरर्थक खर्च उसकी परिधि में आता है।
  3. अपने बुजुर्गों का पूरा आदर सम्मान करें। उनको , अगर आपको बड़े त्याग भी करने पड़ें , तो भी , समायोजित (accommodate) करने का यत्न करें। आपके त्याग में आपको जो कष्ट होगा , भगवान आपको अपनी अनुकम्पा से उसकी पूरी या कहीं अधिक भरपायी करेंगे।
  4. किसी भी प्रकार के नशे से दूर रहें। पारिवारिक जीवन में बहुत से क्लेश किसी न किसी सदस्य की नशाखोरी की आदत से उपजते हैं। यह नशाखोरी विवेक का नाश करती है। आपकी सही निर्णय लेने की क्षमता समाप्त करती है। आपको पतन के गर्त में उतारती चली जाती है और आपको आभास भी नहीं होता।
  5. तनाव और क्रोध दूर करने के लिये द्वन्द्व के मैनेजमेण्ट (conflict management) पर ध्यान दें।   इस विषय पर मैने स्वामी बुधानन्द के लेखों से एक पावर प्वॉइण्ट शो बनाया था क्रोध और द्वन्द्व पर विजय । आप उसे हाइपर लिंक पर या दाईं ओर के पहले स्लाइड के चित्र पर क्लिक कर डाउनलोड कर सकते हैं। यह आपको सोचने की खुराक प्रदान करेगा। इसमें स्वामी बुधानंद ने विभिन्न धर्मों की सोच का प्रयोग किया है अपने समाधान में। बाकी तो आपके अपने यत्नों पर निर्भर करता है।

बस। आज यही कहना था।


अनूप शुक्ल अभी अभी एक गम्भीर आरोप लगा कर गये हैं पिछली पोस्ट पर टिप्पणी में – “… आलोक पुराणिक हमारा कमेण्ट चुरा कर हमसे पहले चेंप देते हैं। इसकी शिकायत कहां करें?”

यह आलोक-अनूप का झगड़ा सीरियस (! :-)) लगता है। और उसके लिये अखाड़ा इस ब्लॉग को बना रहे हैं दोनो। ये ठीक बात नहीं है! 🙂



शादी के रिश्ते – क्या चाहते हैं लोग?



यह श्रीमती रीता पाण्डेय की पारिवारिक पोस्ट है। मेरा योगदान बतौर टाइपिस्ट है। एक घरेलू महिला अपने परिवेश को कैसे देखती समझती है – यह रीता जी के नजरिये से पता चलेगा।


मैं बनारस में अपनी मां के साथ रजाई में पैर डाले बैठी बात कर रही थी। अचानक भड़भड़ाते हुये घर में घुसी चन्दा भाभी की खनकती आवाज सुनाई दी। अरे चाची कहां हो – जरा पैर छूना है।

मां ने पैर छुआने को रजाई से बाहर पैर किया – क्या बात है चन्दा? बड़ी खुश लग रही हो!

“हां चाची, अभी फुर्सत मिली तो आपका आशीर्वाद लेने आ गयी। वो क्या है कि श्रीधर की शादी के लिये कुछ लोग आये थे। बड़ी दमदार पार्टी है चाची। दस-पन्द्रह लाख तो खर्च करेंगे ही। लेकिन चाची…”

मैने बात सुनते ही बीच में टपकाया – “लेकिन वेकिन छोड़िये भाभी, मिठाई-विठाई की बात करिये।“

तब तक मेरी दोनो भाभियां आ गयी थीं। चन्दा भाभी हम सभी को सुना कर बोलीं – “लेकिन वे ब्राह्मण थोड़े नीचे के हैं।“

मैने आश्चर्य में पूछा – चन्दा भाभी ब्राह्मण में भी ऊंच-नीच?

तब तक मेरी एक भाभी की जबान फिसल ही गयी – क्या चन्दा भाभी, अब तक तो आप परेशान थीं कि कोई रिश्ता नहीं आ रहा है। अब जाति-पांति, ऊंचा-नीचा ब्राह्मण। गोली मारिये भाभी; पन्द्रह लाख रुपया हाथ से जाने न पावे!

चन्दा भाभी के तीन बच्चे हैं। एक लड़की थी, उसकी शादी पहले कर चुकी हैं। बड़ा लड़का श्रीधर पढ़ने में फिसड्डी था। डोनेशन दे कर इन्जीनियरिंग कॉलेज में दाखिला दिलाया। लेकिन बुरी सोहबत में शायद वह नशाखोरी करने लगा। किसी दूर के शहर में बिना लोगों को बताये इलाज कराया। खबर तो फैलनी थी; सो फैली। अभी भी वह रेगुलर चेक अप के लिये जाता है। यहां नहीं कहीं दूर के शहर में रहता है। कहता है कि इन्जीनियरिंग सर्विस परीक्षा की तैयारी कर रहा है। कुल मिला कर झूठ पर रची गयी है श्रीधर की पर्सनालिटी। दूसरा लड़का शशिधर दिल्ली में है। बकौल चन्दा भाभी – ’दस-बीस हजार की नौकरी तो वह चुटकियों में पा सकता है। पर वह लड़कियों के मताहत काम नहीं करना चाहता।’

हम सभी समझ नहीं पाते हैं कि चन्दा भाभी चाहती क्या हैं!

—–

मेरे रिश्ते में एक बुआ हैं। दशकों से उनका परिवार बंगलूर में रहता है। उनकी छोटी बेटी वहीं पैदा हुई। शिक्षा भी वहीं हुई। अच्छी कम्पनी में नौकरी करती थी। बस थोड़ी सांवली और छोटे कद की थी। पिछले दस साल से मेरे फूफा और बुआ अपने बेटों के साथ उसके लिये बनारस, गाजीपुर, मिर्जापुर आदि जगहों पर चक्कर लगा रहे थे उसकी शादी के लिये। वे उच्च श्रेणी का सरयूपारी लड़का ढ़ूंढ़ रहे थे। अफसर से ले कर प्राइमरी स्कूल तक के टीचर भी देखे गये। दहेज का रेट भी बढ़ाया गया।

मैने एक दिन फोन पर बुआ की लड़की से कहा – पुष्पा, तुम्हारे माता पिता सरयूपारी ब्राह्मण के चक्कर में पड़े हैं। तुम तो किसी दक्षिण भारतीय को पसंद कर लो। तुम गुणी हो और नौकरी पेशा भी। वहीं अच्छे लड़के मिल जायेंगे।

पर पुष्पा ने तुरंत अपने पापा और भाइयों की इज्जत की दुहाई दी।

कुछ समय पहले पुष्पा की अन्तत: शादी हो गयी। वह बत्तीस साल की है। लड़का उससे उम्र में कम है, अच्छा सरयूपारी ब्राह्मण है। उससे कम पढ़ा है। शिक्षा आधी है पर शरीर चार गुणा है पुष्पा से।

बहुत पहले पुष्पा किसी बात पर मुझसे कह रही थी – ’हम अपनी फ्रीडम से समझौता नहीं करते।’ अब लड़के के बारे में बात चलने पर वह कह रही थी – ’मैं पापा के चेहरे पर उदासी नहीं देख सकती। पापा जिसके साथ मेरा रिश्ता तय कर देंगे, उसके साथ मैं रह लूंगी।’

—-

मुझे समझ में नहीं आता लोग क्या चाहते हैं? किसी के मन की थाह पाना कितना मुश्किल है।

कबहूं मन राज तुरंग चढ़े, कबहूं मन जोगी फकीर बने!

पुराणिक जी की भाषा में कहें – भौत कन्फ्यूजन है जी!


1. कल पुराणिक जी ने टिप्पणी की थी: “मुझे डाऊट होता है कि आप अफसर हैं भी या नहीं।”
यह पढ़ कर श्रीमती रीता पाण्डेय ने कहा – बिल्कुल सही कह रहे हैं। वह तो भला हो रतलाम-कोटा के कर्मचारियों का कि अफसर नुमा न होते हुये भी पोज – पानी बनाया। वर्ना तुम लायक तो नहीं थे अफसरी के!
रीता जी ने धमकी भी दी है कि वे अगली पारिवारिक पोस्ट मेरे अन-अफसर लाइक व्यक्तित्व पर लिख कर मेरी पोल खोलेंगी!
2. कल प्रियंकर जी ने जितनी उत्कृष्ट टिप्पणी की कि मन गार्डन-गार्डन हो गया। वह टिप्पणी तो मैं कुछ दिनों बाद एक पोस्ट के रूप में ठेल दूंगा प्रियंकर जी की अनुमति लेकर। प्रियंकर जी की कलम का मुरीद हूं मैं!
पर यह नहीं है कि अन्य टिप्पणियां उत्कृष्ट नहीं थीं। अमेरिका-खाड़ी-छत्तीसगढ़-कोटा-गोवा… इतने स्थान के दिहाड़ी मजदूरों के बारे में इतनी उत्कृष्ट टिप्पणियां इकठ्ठी हो गयी हैं कि क्या कहें!