पाणिनि जी के कहे पर अवधी में लिखइ क परयोग

एक साध मन में जरूर जिंदा रही कि अवधी में, आपन बोली में पांच सात मिनिट बोलि सकी। बकिया, हमार पत्नी जी ई परयोग के बहुतइ खिलाफ हइन। ओनकर बिस्वास बा कि हमार अवधी कौनौं लाया नाहीं बा।


कालि पाणिनि आनंद जी क फोन आई रहा। ओ तीन ताल वाली बतकही क बाबा हयेन। ओ जेतना पारंगत हिंदी में हयेन ओसे ढेरइ अवधी में होइहीं। ओनसे हम आपन हिंदी सुधारई बदे बात किहा। आपन अवधियऊ धाराप्रबाह करे के बारे में भी कहा। ओ कहेन कि हम अवधी में कुछ लिखि क देखाई त ओ कौनौ सुझाब दई सकिहीं। उही बदे ई लिखत हई।

पाणिनि आनंद

जब हम गदेला रहे, त सात साल कि उमिर तक अवधियई बोलात रहा घरे में। ओकरे बाद पिताजी अपने संगे जेहर लई गयेन ओहर रहे त अवधियउ भुलाइ गइ। एक साध मन में जरूर जिंदा रही कि अवधी में, आपन बोली में पांच सात मिनिट बोलि सकी। बकिया, हमार पत्नी जी ई परयोग के बहुतइ खिलाफ हइन। ओनकर बिस्वास बा कि हमार अवधी कौनौं लाया नाहीं बा।

एक किताब रही सीताराम पांड़े सुबेदार पर। ओ सन सत्तावन क लड़ाई में अंगरेजन क सेना में रहेन और रिटायर भये पर अवधी में आपन आत्मकथा लिखे रहें। ऊ आत्मकथा त बिलाइ गई, लेकिन कौनों अंगरेज अफसर जेम्स लंट ओकर अंगरेजी अनुबाद करे रहेन। ऊ किताब सिविल सेवा के अफसरन के पढ़े परत रही। [अंगरेजी में कितबिया सायदसे इण्टरनेट आर्काइव पर मिलि जाये।] ओकर अनुबाद फेरि से अवधी में मधुकर उपाध्याय करे रहेन। हमरे लगे ऊ प्रति रही पर के जाने के लई गयेन त लौटायेन नाहीं। ओकरे बारे में अपने ब्लॉग पर हम लिखे भी रहे। अब ऊ कितबिया कतऊं मिलतऊ नाहींं बा। आउट आफ प्रिण्ट होई गइ। अवधी पढवैय्या हईअई नाहीं हयें त काहे फेरि छापइ परकासक?

“सीताराम पांड़े” रही होति त ओके पढ़े से कौनो सहायता मिलत। अब त जीडी तोहके खुदै परयोग करे परे।

हमरे खियाल से एतना काफी रहे पाणिनि जी के देखावई बदे। बकिया, ई लिखब बहुत मुस्किल बा। अउर असल बात त ई बा कि एकर कौनो पढ़वईया त हयेन नाहीं! 😆


पद्मजा पाण्डेय के नये साल के ग्रीटिंग्स

इसमें चीनी पाण्डेय ने बहुत कुछ सीखा। अपने रोज के मिलने वाले, घर में काम करने वालों और आसपड़ोस के बच्चों से जुड़ाव सीखना एक सही बात है! गांव की समझ उससे मजबूत होती है।


पद्मजा (चीनी, चिन्ना) बहुत दिनोंं से कह रही थी नये साल को मनाने के लिये। स्कूल बंद होने से बच्चे को कोई नया करने को चाहिये। तब मैंने चीनी के साथ सोचा कि ग्रीटिंग कार्ड बनाये जायें। जब मेरे बच्चे छोटे थे तब यह सब मैं खाली समय में उनके साथ करती थी। ढाई तीन दशक बाद अब फिर मन हुआ वही सब करने के लिये अपनी पोती के साथ।

ग्रीटिंग कार्ड

महराजगंज के दुकान वाले सज्जन ने ग्रीटिंग कार्ड के बारे में पूछने पर कहा – आजकल ग्रीटिंग कौन खरीदता है मैडम ह्वाट्सएप्प के जमाने में!

स्कूल नहीं चल रहे तो दुकान में बच्चों के लिये चार्ट पेपर भी मिलना कठिन था, पर उनकी दुकान पर मोटा कागज पड़ा मिल गया। इतना मोटा भी नहीं था, पर कामचलाऊ तो था ही। दुकानदार को मैंने बताया कि घर पर ही पोती को सिखायेंगे ग्रीटिंग कार्ड बनाना।


पद्मजा के बारे में अन्य पोस्टें –

  1. स्कूल बंद हैं तो घर में ही खोला एक बच्चे के लिये स्कूल
  2. पद्मजा के नये प्रयोग
  3. चीनी पाण्डेय ने बनाई चिड़िया की कहानी
  4. कोविड19 लॉकडाउन काल में चिन्ना पांड़े – रीता पाण्डेय
  5. चिन्ना पांड़े, लॉयन और मटर पनीर
  6. पद्मजा पान्दे, चूनी धईके तान्दे…

मोटा पेपर देख कर चिन्ना बहुत उत्साहित हुई। उसने कहा कि ग्रीटिंग कार्ड बनाने हैं और वाल हेंगिंग भी। कितने बनाने हैं उसकी गिनती होने लगी। एक एक बच्चे को ग्रीटिंग कार्ड देने में संख्या बहुत बड़ी हो रही थी। इसलिये यह तय किया गया कि एक परिवार को एक कार्ड और एक चाकलेट दिया जायेगा। उसमें उस परिवार के सारे बच्चे कवर हो जायेंगे।

वाल हैंगिंग

अपनी बिटिया के साथ तो मैं सुतली की वाल हैंगिंग, रुमाल में कढ़ाई, गुड़िया बनाना, साइंस की वर्कबुक में चित्र बनाना और तरह तरह के अन्य प्रॉजेक्ट्स में व्यस्त रहती थी। ड्राइंग और क्राफ्ट उनकी पढ़ाई का जरूरी हिस्सा हुआ करता था। अब पता नहीं स्कूलों में इस तरह के क्लास हुआ करते हैं या नहीं। चिन्ना के साथ साथ आगे पता चलेगा। आखिर, बच्चों के पूरे विकास के लिये हर तरह की क्रियेटिविटी तो बहुत जरूरी है।

ड्राइवर अशोक को ग्रीटिंग देती पद्मजा

इस साल चिन्ना स्कूल बंद होने के कारण अपने बाबा के साथ घर के बगीचे में घूम घूम कर साइंस और भूगोल की जानकारी लेती रहती है। घर के पेड पौधों, जीवों, सूरज के सवेरे से शाम तक घूमने और रात में चांद तारों की पोजीशन देखने परखने से उसे बहुत कुछ समझ आ रहा है। पर यह क्राफ्ट वाली रचनात्मकता भी मेरे ख्याल से जरूरी है।

ग्रीटिंग आदान प्रदान के बाद नीलम आण्टी (पतली वाली) और कुसुम आण्टी के साथ पद्मजा । नीलम और कुसुम घर में काम करती हैं।

मेरा नाती, विवस्वान तो अब छठी कक्षा में है। वह तबला बजाना, स्केच और पेण्टिंग करना सीख चुका है। आजकल कोडिंग सीख कर एप्प बनाने लगा है। चिन्ना को भी वह सब या उसी तरह की अपनी रुचि के मुताबिक करना है। इसकी डांस में रुचि है। गांव में उसे नृत्य कैसे सिखाया जा सकता है, अभी समझ नहीं आ रहा। वह कप्यूटर पर अपने बाबा के साथ पावरप्वाइण्ट बना कर अपनी बात समझाने की कला सीख गयी है। कभी लगता है वह अच्छी टीचर बनेगी।

पेपर वाले अंकल को ग्रीटिंग देते समय पद्मजा। अखबार वाले अपने साथ सेल्फी ले रहे थे चिन्ना की!

फिलहाल हम लोगों ने ग्रीटिंग्स और वाल हैंगिंग बनाये। इसमें चीनी पाण्डेय ने बहुत कुछ सीखा। अपने रोज के मिलने वाले और घर में काम करने वालों से पारिवारिक जुड़ाव सीखना एक सही बात है! गांव की समझ उससे मजबूत होती है।

उसके अलावा आस पड़ोस के बच्चे भी आये जिनको ग्रीटिंग कार्ड में ज्यादा रुचि नहीं थी, पर जो चिन्ना की दी चॉकलेट, घर के परिसर में खेलने और झूले पर बैठने-झूलने तथा चिन्ना की साइकिल चलाने में ज्यादा उत्साहित थे। वे दिन भर आते रहे और चीनी हो भी सामाजिक व्यवहार करने के अवसर मिले। हम लोग बच्चों के शोर से ऊब गये पर चिन्ना नहीं!

और यह सब तुच्छ से कागज पर कलर पेंसिल से कुछ उकेर कर ग्रीटिंग कार्ड बनने से हो पाया।