कोरोना की मानसिक थकान दूर करने के काम

कोरोना थकान दूर करने के लिये शहराती लोग योगा-शोगा कर, किताब पढ़ या रस्सी टाप कर अपनी फोटो सटा रहे हैं सोशल मीडिया पर। हमारे पास तो यही गतिविधि है। उसी के फोटो ही सही!


थक गये हैं कोरोना से। पहले पहल तो घर के बाहर के दरवाजे को रोज सेनिटाइजर लगा लगा कर दो तीन बार मला जाता था। दसमा दूध ले कर आती थी तो दूध के बर्तन को डिस्पोजेबल नेपकिन से पकड़ कर दूध उंडेला जाता था अपने भगौने में। सब्जी वाले से सब्जी खरीद कर चार पांच घण्टा बाहर रख दी जाती थी, जिससे वायरस थक हार कर उसे छोड़ चला जाये। कल्पना में हर जगह कोविड-19 के वायरस गेंद ही नजर आते थे।

कोरोना बचा, बाकी सब कुछ होल्ड पर चला गया। परिसर में जंगली घास बढ़ने लगी। बसंत धोबी को इस्त्री करने के कपड़े देने में आनाकानी होने लगी। कोई भी बाहर से आये तो उसका हाथ पहले सेनीटाइज किया जाने लगा। साबुन और हैण्डवाश दे कर उन्हे पर्याप्त कोरोनामुक्त कराने का मानसिक आश्वासन पाने लगे हम। फिर भी मन में दगदग बनी रहती थी कि कहीं चिपक तो नहीं गया कोरोना।

अब लगता है उसमें से यद्यपि बहुत कुछ जरूरी था; पर कुछ खालिस ओवर रियेक्शन था।

तय किया कि घास को साफ कर घर के पास के और भाग में खडंजा बिछाया जाये

मोनोटोनी तोड़ने के लिये तय किया कि बेतरतीब उग आयी घास और कांग्रेस घास को साफ कराया जाये। घर के सामने के भाग में खडंजा बिछाया जाये जिससे नियमित साफसफाई रखने में झंझट कम हो सके। इसी बहाने गांव के दो-चार लोगों की दिहाड़ी बन सकेगी, जो अभी लॉकडाउन के चक्कर में बिना काम घूम रहे हैं।

पत्नीजी ने कहा – कोई धर्मार्थ कार्य करने की बजाय इसी मद में खर्च कर परिवेश भी ठीक करा लिया जाये और काम की तलाश कर रहे गांव वाले जरूरतमंद बंधुओं की सहायता भी हो जाये।

सो कोरोना फेटीग (मानसिक थकान, ऊब) को मिटाने के लिये कल से यह काम कराया जा रहा है। पत्नीजी को तीन-चार काम करने वालों को नाश्ता देने, पानी-चाय-बिस्कुट का इंतजाम करने और उनपर सवेरे आते ही हाथ साबुन से धोने की गुहार लगाने का आनंद मिलने लगा है। वे उनपर अपनी कोरोना विषयक जानकारी का प्रवचन दे लेती हैं। बिना प्रवचन दिये, उनकी सेहत पर भी बुरा असर पड़ रहा था। 😆

अकेले टीवी के सामने बैठने की बजाय उन लोगों से पर्याप्त सोशल डिस्टेंस बनाते हुये भी काम कराना बेहतर अनुभव है। कल तो सफाई कराते समय एक पांच फुट का सांप भी निकल आया। बहुत डेन्जरस टाइप नहीं लग रहा था पर इधर उधर डोल जरूर रहा था। उसे अवसर दिया गया कि कहीं बाहर चला जाये। जब उसमें बहुत यत्न कर भी सफल नहीं हुये तो उसका वध करने का निर्णय लिया गया। बेचारा!

उसके निपटारे में भी एक घण्टा व्यतीत हुआ।

पांच फुट से ज्यादा लंबा सांप

पता नहीं, गांव-पड़ोस के लोगों को एम्प्लॉय कर यह काम कराना मोदी-जोगी जी की लॉकडाउन अवधारणा का कितना उल्लंघन है। पर अच्छा खूब लग रहा है। टीवी देखने से ज्यादा मन रम रहा है।

सवेरे बगल के गांव का एक दम्पति आता है सब्जी ले कर।

सवेरे बगल के गांव का एक दम्पति आता है सब्जी ले कर। कुछ उनके खेत का उगाया है और कुछ मण्डी से। ज्यादा जरूरत नहीं है सब्जी की। पर उनसे खरीद ली जाती है। उसमें भी विचार यही है कि भले ही सब्जी थोड़ी ज्यादा ही बने, उन लोगों का कुछ फायदा तो हो सके। इस लॉकडाउन के समय में बेचारे बाजार तक तो जा नहीं सकते अपनी सब्जी ले कर!

कोरोना थकान दूर करने के लिये शहराती लोग योगा-शोगा कर, किताब पढ़ या रस्सी टाप कर अपनी फोटो सटा रहे हैं सोशल मीडिया पर। हमारे पास तो यही गतिविधि है। उसी के फोटो ही सही! 😆


नीलगाय ने रास्ता काटा

बिल्ली रास्ता काटती है तो अपशगुन होता है। गांवदेहात में नीलगाय के रास्ता काटने पर कोई शगुनापशगुन का निर्णय नहीं किया गया।


वह नीलगाय नहीं, नीलसांड़ (blue bull) था। उसकी झुण्ड में औकात के हिसाब से दाढ़ी भी थी। बड़ा और भय उत्पादक शरीर था उसका। कद्दावर। सींग जरूर उसके कुछ छोटे थे। अभी अभी जवान हुआ होगा।

सड़क के दोनो ओर के खेतों में गेंहूं की फसल कट चुकी थी। कल दिन में बारिश और ओले पड़े थे, इसलिये किसानों ने कटाई के बाद गठ्ठर नहीं बनाये थे। सूखने के लिये बालें फैली छोड़ दी थीं खेत में। नीलगाय वही चर रहा था निर्द्वन्द्व।

मैं सोच रहा था कि वह दायें वाले खेत में ही चरेगा और साइकिल से चलता निकल जाऊंगा; पर उसने अचानक मेरे सामने से सड़क पार करने की सोच ली।

Continue reading “नीलगाय ने रास्ता काटा”

कोरोना के आंकड़े अब घूरने लगे हैं

अब लोग हाइड्रॉक्सी क्लोरोक्वीन या रेमडेसिविर (remdesivir) जैसे टंगट्विस्टर दवाओं के नामों का उच्चारण करने लगे हैं। अब यह नहीं कहते कि गर्मी बढ़ते ही कोरोना गायब हो जायेगा। या फिर दो-चार महीनों में इसका टीका ईजाद हो जायेगा।


लॉकडाउन के पहले की बात है, गुन्नीलाल पांड़े जी ने कहा था कि यह काशी-विंध्याचल-संगम के बीच का क्षेत्र है। कोरोना का यहां कोई असर नहीं होगा। उस दिन (अठारह मार्च) की यह रही ट्वीट –

गुन्नीलाल जी उस दिन यह कह, शायद मुझे सांत्वना दे कर, मेरा कोरोनावायरस विषयक तनाव कम कर रहे थे। पर उस दिन के बाद उनसे मुलाकात नहीं हुई। उसके बाद जनता कर्फ्यू हुआ, और फिर लॉकडाउन। कालांतर में लॉकडाउन का एक्स्टेंशन। लोगों से यदा कदा उनकी खबर मिलती रही। पाण्डेय जी अपने घर से नहीं निकले और मैं भी उनकी ओर नहीं गया।

अब, कल बात हुई गुन्नीलाल जी से फोन पर। बोले –

“यह आसानी से जाने वाला नहीं है। कोई टीका नहीं है इसका और कोई इलाज भी नहीं। बस बच कर ही रहा जाये।”

Continue reading “कोरोना के आंकड़े अब घूरने लगे हैं”

मस्क a.k.a. मास्क

देखा कि एक साइकिल सवार हैंडिल में एक झोला लटकाये, हाथ में साधारण से मास्क लिये है। चाइनीज वाइरस के जमाने में मास्क की मार्केट की आपूर्ति कर रहा है।


दोपहर दो बजे। मौसम गर्म था, धूप तेज। पत्नीजी ने आवाज सुन कर बाहर झांका ओर आ कर बताया कि कोई मस्क बेच रहा है।

मस्क? कस्तूरी?

कस्तूरी इतनी मंहगी चीज है – आजकल कहां मिलती है और कौन फेरीवाला बेचेगा? वह भी गांव में? जरूर फ्रॉड होगा। फिर भी मैं उठा। आजकल लॉकडाउन काल में हर एक फेरीवाले की इज्जत बढ़ गयी है। क्या पता कौन काम की चीज लिये हो।

“एक साइकिल सवार हैंडिल में एक झोला लटकाये, हाथ में साधारण से मास्क लिये है” : फेरीवाला

घर के बाहर गेट तक निकल कर गया तो देखा कि एक साइकिल सवार हैंडिल में एक झोला लटकाये, हाथ में साधारण से मास्क लिये है। चाइनीज वाइरस के जमाने में मास्क की बढ़ी हुई मांग की आपूर्ति कर रहा है। बताया कि पैंतीस रुपये में एक “मस्क” है। दो कपड़े की लेयर का मास्क। ऊपर काले रंग का कपड़ा है और भीतर अधिक महीन सफेद रंग का। टी-शर्ट और बनियान के कपड़े जैसे। उसी काले कपड़े के दो छल्ले साइड में बने हैं जो कान पर अटकाने के लिये हैं। बहुत साधारण डिजाइन।

दो लेयर का मास्क लगभग 50 से 60 प्रतिशत छोटे पार्टिकल्स छानने में सक्षम होगा, मैंने अंदाज लगाया। कोरोना वायरस को मुंह और नाक में जाने से रोकने के लिए शायद काम करेगा। लोग गमछा लपेटने की सलाह दे रहे हैं। वह लपेटने में बार बार सरक जाने और ढीला पड़ जाने की परेशानी होती है। यह उससे बेहतर ही होगा।

Continue reading “मस्क a.k.a. मास्क”

महाभारत, द्रौपदी का चीरहरण और धर्म

और धृतराष्ट्र आंख से ही नहीं, मन और बुद्धि से भी अंधे थे। लेकिन उस सभा में आंख, कान, मुंह वाले भी कायर और नपुंसक थे। द्रौपदी के प्रश्नों का उत्तर किसी के पास नहीं था।


दशकों पहले कुप्पु. सी. सुदर्शन जी को कहते सुना था कि धर्म शंकु की तरह नहीं होता जो उठता है और फिर गर्त में चला जाता है। धर्म चक्र की तरह होता है जो ऊपर उठता है, नीचे जाता है, फिर ऊपर उठता है। हर समाज के उत्थान-पतन-उत्थान की तरह धर्म का चक्र भी बदलता रहता है।

उसी भाषण में सुदर्शन जी ने कहा था कि महाभारत काल से ही ब्राह्मण और क्षत्रिय दोनो अपने स्थान से नीचे गिरते चले गये। वे पुनः उत्थान के दौर में कब आयेंगे यह आगे आने वाले समय की बात होगी।

Continue reading “महाभारत, द्रौपदी का चीरहरण और धर्म”